दिल्ली के 450 डॊक्टरों ने राष्ट्रपति से सामुहिक आत्महत्या की अनुमति मांगी


(Photo Credit : newindianexpress.com)

दिल्ली के 450 डॉक्टरों ने राष्ट्रपति रामदेव कोविंद से सामुहिक आत्महत्या कि अनुमति मांगी है। वेतन न मिलने के कारण हड़ताल पर बैठे हिंदूराव अस्पताल के डॉक्टरों ने सोमवार शाम को राष्ट्रपति को पत्र भेजा। इसमें लिखा था कि अस्पताल के लगभग 450 डॉक्टर हड़ताल पर हैं। उन्हें अपने वेतन के लिए नगरपालिका और दिल्ली सरकार के सामने साल में कम से कम दो से तीन बार भीख मांगनी पड़ती है।

डॉक्टरों के अनुसार, अब उनके सामने पारिवार को पालने का खतरा है। बार-बार शिकायत के बाद भी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। इसलिए डॉक्टर सामूहिक रूप से आत्महत्या करना चाहते हैं।

डॉक्टरों ने आरोप लगाया है कि सोमवार मंगलवार को अस्पताल के बाहर ओपीडी खोलने के बाद पुलिस टीम उनको जबरदस्ती हटा रही थी। उत्तरी दिल्ली नगर निगम के अधिकारियों के कहने पर, दिल्ली पुलिस उनके शांत विरोध प्रदर्शन को उकसाने की कोशिश कर रही है। आर.डी.ए. के डॉ. संजीव चौधरी ने कहा कि डॉक्टर अपने स्वयं के वेतन के लिए हड़ताल पर हैं, लेकिन फिर भी मरीजों को अस्पताल के बाहर इलाज दिया गया है। यहां दिल्ली को छोड़कर एनसीआर से मरीज आते हैं, लेकिन पुलिस ने हमें ओपीडी हटाने के लिए मजबूर कर दिया है। डॉक्टरों का इस तरह से वेतन के लिए हड़ताल करना सरकार के लिए शर्मनाक है।

हालांकि, राष्ट्रपति भवन की ओर से इस पत्र के बारे में कोई बयान नहीं आया है। उल्लेखनीय है कि इस अस्पताल का प्रबंधन दिल्ली नगर निगम द्वारा किया जाता है, लेकिन दिल्ली सरकार और नगरपालिका के बीच उपद्रव के कारण यह अधिक चिंताजनक है।