ICC के 7 ऐसे नियम जो विश्व कप में पहली बार होंगे लागू


(Photo Credit : twitter.com/cricketworldcup)

क्रिकेट विश्व कप का 12वां सीज़न 30 मई से इंग्लैंड-वेल्स में शुरू होगा। इस बार टूर्नामेंट में केवल 10 टीमें भाग ले रही हैं, साथ ही इस बार आईसीसी द्वारा नए नियम भी लागू किए जा रहे हैं। 2015 में खेले गए विश्व कप के बाद से, ICC ने अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में 7 नए नियम लागू किए हैं। यही कारण है कि, 4 साल बाद, ये सभी नियम 2019 विश्व कप पर लागू होंगे। ये सभी नियम एक दिवसीय क्रिकेट के लिए लागू किए गए हैं, लेकिन यह विश्व कप में पहली बार लागू होंगे। आप भी जानिए इन 7 नियमों के बारे में:

हेलमेट से आउट, लेकिन हैंडल द बॉल नॉटआउट

अगर बल्लेबाज का हवाई शॉट फील्डर के हेलमेट से टकरा कर उछलता है और एक फील्डर उसे पकड़ लेता है, तो बल्लेबाज आउट माना जाएगा। लेकिन हैंडल द बॉल के मामले में बल्लेबाज आउट नहीं होंगे।

अंपायर को मिली यह आज़ादी

अगर अंपायर को लगता है कि कोई खिलाड़ी बहुत बुरा व्यवहार कर रहा है, तो वह तुरंत आईसीसी की आचार संहिता की स्तर 4 की धारा के तहत दोषी घोषित करके खिलाड़ी को मैच से तुरंत बाहर भेज सकता है।

यह नया नियम आया रिव्यु के बारे में

अगर बल्लेबाज या फील्डिंग टीम DRS यानी रिव्यु ले और अंपायर कॉल के लिए अंपायर के फैसले को ही माना जाएगा तो भी टीम का रिव्यु खराब नहीं होगी।

यदि गेंद को दो बार बाउन्स होती है नो बॉल मानी जाएगी

मैच के दौरान, यदि गेंदबाज गेंद को फेंकता है और गेंद 2 बार उछाल के साथ बल्लेबाज तक पहुंचती है, तो इसे नो बॉल माना जाएगा।

अगर बल्ला लाइन पर है, तो भी इसे रन आउट माना जाएगा

पहले रनआउट, स्टंपिंग के मामले में, बल्ला लाइन पर होता था तो आउट नहीं माना जाता था, लेकिन अब बल्ला लाइन पर होगा तो भी वह आउट माना जाएगा। अगर बैट या बल्लेबाज का पैर क्रीज के अंदर होगा और हवा में भी होगा, तो भी बल्लेबाज आउट नहीं माना जाएगा।

बल्ले की लंबाई और चौड़ाई भी तय की गई है

बल्ले का आकार निर्धारित किया गया है। बल्ले की लंबाई 108 मिमी, चौड़ाई 67 मिमी से अधिक नहीं होनी चाहिए और कोण पर 40 मिमी से अधिक नहीं होनी चाहिए। अगर अंपायर को संदेह होता है तो वह बल्ले की लंबाई और चौड़ाई को माप भी सकता है।

लेग बाय और बाय के रन को अलग से जोड़ा जाएगा

पहले अगर गेंदबाज गलत गेंद फेंकता था, तो लेग बाय या बाय के रन उसके खाते में जुड़ते थे, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। गलत गेंद के रन अलग और बाय-लेग बाय के अंक अलग से जोड़े जाएंगे।