भयंकर तूफान और हाई अलर्ट के बावजूद सोमनाथ मंदिर नहीं हुआ बंद


(Photo Credit : dnaindia.com)

वायु के प्रभाव से राज्य के तटीय क्षेत्रों गिर सोमनाथ, विट्ठल, तीथल, पोरबंदर और दीव सहित अन्य क्षेत्रों में समुद्र की तूफानी हवाओं के साथ बारिश हो रही है। समुद्र में उंची-उंची लहरें उठ रही हैं, तेज़ हवाओं के कारण धूल के गुबार उड़ रहे हैं। हाइ अलर्ट की घोषणाओं के बीच, NDRF, सेना सहित विभिन्न सुरक्षा एजेंसियों ने मोर्चा संभाल लिया है।

तटीय क्षेत्रों से लगभग 3 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर ले जाने के लिए अभियान शुरू किया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह तूफान की स्थिति की निगरानी कर रहे हैं। मुख्यमंत्री विजय रूपाणी ने भी कंट्रोल रूम का मोर्चा संभाल लिया है। वह प्रशासनिक अधिकारियों के साथ तालमेल बना कर राहत व्यवस्थाओं की देखरेख कर रहे हैं।

तूफान वायु के चलते गुजरात में हाई अलर्ट की घोषणा की गई है, इसके बावजूद लेकिन सोमनाथ मंदिर के दरवाजे बंद नहीं किये जाएंगे। रिपोर्ट के अनुसार, गुजरात के मंत्री भूपेंद्र सिंह ने सोमनाथ के दरवाजे खुले रखने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि यह कुद्रति आफत है, कुद्रत ही इसे रोक सकती है, तो हम कुद्रत को क्यों रोकें। इसके अलावा, उन्होंने कहा कि हमने भक्तों से तूफान के समय सोमनाथ मंदिर नहीं आने का अनुरोध किया है। लेकिन हम सालों से मंदिर में होने वाली आरती को नहीं रोक सकते।

मौसम विभाग द्वारा दी गई जानकारी के अनुसार, वायु तूफान ने रातोरात मार्ग बदल दिया है। चक्रवात समुद्र की ओर मुड़ गया है। कहा जा रहा है कि अब गुजरात में वायु तूफान का प्रकोप नहीं देखा जाएगा। हालांकि, प्रशासन किसी भी स्थिति से लड़ने के लिए हाइ अलर्ट पर है।