अहमदाबाद : अस्पताल में शवों की अदला-बदली का मामला; गुस्साए परिजनों में आक्रोश


(PC : DNAIndia.com)

अहमदाबाद। स्थानीय वी एस होस्पीटल में शवों की अदला-बदली का मामला प्रकाश में आया है। इस मामले में अस्पताल की लापरवाही से जहां दोनों ही मृतकों के परिजनों में रोष है, वहीं अहमदाबाद के आम लोग भी प्रशासन की लापरवाही से गुस्साए हैं और दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग कर रहे हैं। शनिवार को दोनों ही मृतकों को दोबार पोस्टमोर्टम हो रहा है और उसके बाद संबंधित परिजनों को शव सौंपे जायेंगे।

क्या है मामला

पूरा मामला कुछ यूं है कि अहमदाबाद के वाडीलाल साराभाई होस्पीटल यानि वीएस होस्पीटल के कोल्ड स्टोरेज में दो शव रखे गये थे। ये दो शव नसरीन बानु नामक एक गर्भवती महिला और मित्तल जाधव नामक युवती के थे। नसरीन बानु की मौत गुरुवार को प्रसूति से पूर्व ही हो गई थी। चुंकि नसरीन का शव कर्नाटक भेजा जाना था, इसलिये उसे अस्पताल के कोल्ड स्टोरेज कक्ष में रखा गया। दूसरी ओर गुजरात के बावड़ा के एक तरफा प्रेम के एक मामले में मित्तल जाधवा नामक युवती की हत्या कर दी गई थी। मित्तल के परिजनों की मांग थी कि जब तक हत्यारा पकड़ में नहीं आता वे शव स्वीकार नहीं करेंगे। ऐसे में मित्तल का शव भी उसी कोल्ड स्टोरेज कक्ष में रख दिया गया। बाद में जब हत्यारा पुलिस की गिरफ्त में आ गया तो परिजनों ने मित्तल का शव स्वीकार करना तय किया।

उसके बाद अस्पताल के कर्मचारियों ने लापरवाही बरतते हुए मित्तल के परिजनों को नसरीन बानु का शव दे दिया। मित्तल के पिता ने मीडिया से बातचीत में कहा कि शव-गृह में जब उन्हें शव का चेहरा दिखाया गया तो वह मित्तल का ही था फिर उन्हें कर्मचारियों ने बाहर बैठा दिया और शव लाकर उनके वतन धोलेरा ले जाने के लिये वाहन में रख दिया। वे इस दुःखद घटना से परिवार के लोग इतने गमगीन थे कि वे शव की ठीक से पहचान नहीं कर सके और रीति-रिवाज के अनुसार उसकी दफनविधि कर दी।

दूसरी ओर कर्नाटक से नसरीन बानु के परिजन अस्पताल पहुंचे और शव की पहचान करने पर पाया कि वह उनकी नसरीन का शव नहीं है। उन्होंने बवाल मचा दिया तब पूरी घटना का पता चला। पहले ऐसा कहा जाने लगा कि अस्पताल से शव गायब हो चुका है, लेकिन बाद में तथ्य उभर कर सामने आया कि मित्तल के परिजनों को भूल से नसरीन का शव दे दिया गया है।

शवों की अदला-बदली की पुष्टि होने पर धोलेरा में दफन किया गया शव वापस निकाल कर अहमदाबाद लाया गया। अब एक आर फिर वीएस होस्पीटल के कोल्ड स्टोरेज कक्ष में मित्तल और नसरीन बानु दोनों के शव रखे हैं। दोनों ही ओर से परिजनों ने एक बार फिर पैनल के डॉक्टरों से पोस्ट मोर्टम कराने की मांग की है। शनिवार को पोस्ट मोर्टम के बाद दोनों ही परिजनों को एक बार फिर से शव सौंपे जायेंगे। पुलिस का कड़ा पहरा अस्पताल में तैनात है।