14वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन का प्रधानमंत्री मोदी ने किया उद्घाटन


बेंगलुरु। 14वें प्रवासी भारतीय सम्मेलन का उद्घाटन के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज बेंगलुरु पहुंचे। पीएम मोदी यहां महत्वपूर्ण भाषण दिया। मोदी ने कालेधन से लेकर दुनियाभर में भारतीयों के योगदान का जिक्र किया। दुनियाभर के देशों में रहने वाले प्रवासी भारतीय इस समारोह में शिरकत कर रहे हैं। मुख्य अतिथि पुर्तगाल के प्रधानमंत्री एंटोनियो कोस्टा हैं।

प्रवासी भारतीयों में देश की विकास के लिए इच्छाशक्ति है। देश की प्रगति में सहयात्री हैं।– एक वैल्युएबल पार्टनर हैं, एक साथी है। कभी चर्चा हुआ करती थी ब्रेन ड्रेन की और मैं तब कहता था कि क्या बुद्धू लोग ही यहां बचे हैं क्या? आज विश्वास से कहना चाहता हूं कि हमलोग जो ब्रेन ड्रेन की चर्चा करते थे वर्तमान सरकार ब्रेन गेन के लिए है।

हम सबके भीतर एक ही भाव है और वह है भारतीयता। प्रवासी भारतीय जहां रहे उस धरती को उन्होंने कर्मभूमि माना है और जहां से आए उसे मर्मभूमि माना है। आज आप कर्मभूमि की सफलताओं की गठरी बांधकर मर्मभूमि में पधारे हैं जहां से आपको प्रेरणा मिलती रही। दुनिया के किसी भी देश में भारतीय क्यों न रहता हो उसे एक तरह का अपनापम महसूस होना चाहिए। हमारा लक्ष्य है, सुरक्षित जाएं, प्रशिक्षित जाएं, विश्वास के साथ जाएं।

आपने कालेधन और भ्रष्टाचार पर सरकार की ओर से उठाए गए कदम के बारे में जरूर सुना होगा। ब्लैक मनी, करप्शन हमारी राजनीति और प्रयासों को धीरे धीरे खोखला करता रहा। काले धन के कुछ राजनीतिक पुजारी हमारे प्रयासों को जनता का विरोधी दर्शाते रहे हैं। करप्शन और काले धन को ख़त्म करने में समर्थन जो प्रवासी भारतीयों ने किया है उसके लिए आपका अभिनन्दन करता हूं।