बालाकोट एयर स्ट्राईक में 130 से 170 आतंकियों के मारे जाने का विदेशी पत्रकार का दावा


विदेशी समाचार पोर्टल में प्रकाशित नक्श जिसमें दिखाया गया है कि बालाकोट में घायल आतंकियों को शिंकरी नामक पाक सेना के किस कैंप में ले जाया गया। (PC : stringerasia.it)

पुलवामा में सीआरपीएफ जवानों के काफिले पर हुए आतंकी हमले और उसमें शहीद हुए ४० जवानों का बदला भारत ने पाकिस्तान के बालाकोट स्थित आतंकी संगठन के ठिकाने पर एयर स्ट्राईक करके लिया था। भारत की ओर से उठाये गये इस कदम में कितने आतंकी मारे गये इसको लेकर अब तक स्थिति स्पष्ट नहीं हो पाई है। यहां तक कि वर्तमान चुनाव के माहौल में विपक्ष अपरोक्ष रुप से पूछता भी रहा है कि यदि भारत के हमले में कोई आंतंकी मारे गये तो उसका प्रमाण क्या है। अटकलों के बीच एक विदेशी पत्रकार ने अपने सूत्रों के हवाले से दावा किया है कि बालाकोट एयर स्ट्राईक में जैश-ए-मोहम्मद के १३० से १७० आतंकी मारे गये।

‌एक विदेशी न्यूज वेबसाईट stringerasia.it के पत्रकार फ्रान्सीका मारीनो (Francesca Marino) ने जैश के सरगना मौलाना मसूद अजहर को यूएन द्वारा अंतरर्राष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करने के बाद एक रिपोर्ट प्रकाशित की है।

रिपोर्ट में पत्रकार ने दावा किया है कि बालाकोट में भारतीय वायु सेना द्वारा मध्य रात्रि को हमला किया गया था और उसी दिन सुबह आतंकी ठिकान से २० किमी दूर स्थित सैनिक अड्डे से पाकिस्तानी सेना के जवान घटना स्थल पर पहुंचे थे। सेना के जवानें ने आनन-फानन में पूरे इलाके को खाली करवाया। इस हमले में १३० से १७० जैश के आतंकी मारे गये। २० आतंकी आर्मी बेस कैंप में ईलाज के दौरान मारे गये। वहीं लगभग ४५ आतंकियों का ईलाज अभी भी चल रहा है। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि सेना ने अब तक उन आतंकियों को कैंप छोड़ने नहीं दिया है जो ईलाज के बाद ठीक हो गये हैं। जो लोग हमले में मारे गये उनमें जैश के ११ सदस्य थे जो आंतकियों को ट्रेनिंग दिया करते थे। सेना की ओर से विशेष ध्यान रखा गया कि पूरे मामले की कोई जानकारी लिक न हो। जो लोग हमले में मारे गये उनके परिजन कोई बखेड़ा खड़ा न करें इसके लिये उन्हें आर्थिक सहायता भी दी गई।