हार्दिक पटेल के समर्थन में उतरे भाजपा विधायक


– मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल की मुश्किलें बढ़ी
अहमदाबाद। ऐसा आपको लगता होगा कि गुजरात में राजनीतिक उठापटक नहीं है। बिलकुल नहीं बल्कि वहां भीतर ही भीतर असंतोष पनपने के समाचार मिल रहे हैं। आलम यह है कि पटेल आरक्षण का विरोध करने वाली सरकार के ही एक विधायक आंदोलन के मुखिया हार्दिक पटेल के समर्थन में उतर आए है। इस कारण गुजरात की मुख्यमंत्री आनंदी बेन पटेल की मुश्किलें खड़ी होती नजर आ रही है।
जानकारी के अनुसार सूरत में बुधवार को पाटीदार समाज ने करीब ६ महिने से जेल में बंद पटेल आरक्षण आंदोलन के नेता र्हािदक पटेल को जेल से छुड़वाने और पटेल समाज को जल्द आरक्षण देने की मांग को लेकर एक दिन के धरने का आयोजन हुआ। इसमें राज्यभर के कई पटेल नेता पहुंचे और एक दिन के सांकेतिक धरने और उपवास में शिरकत की। महत्वपूर्ण है कि इस धरने का मकसद जल्द से जल्द र्हािदक पटेल को जेल से छुड़वाने का है। र्हािदक पटेल के खिलाफ गुजरात सरकार ने ही राजद्रोह का मामला दर्ज कर रखा है। पाटीदार आंदोलन के दौरान पुलिस और राज्य सरकार के खिलाफ बोलने के लिए उसके खिलाफ केस दर्ज है। हैरानी तब हुई जब एक तरफ राज्य की आनंदीबेन पटेल के नेतृत्ववाली भाजपा सरकार र्हािदक पटेल की जमानत का कोर्ट में विरोध कर रही है और उसे छुड़वाने के लिए हो रहे धरने में खुद भाजपा के कुछ विधायक पहुंचे। भाजपा के सूरत से विधायक कुमार कानाणी और प्रपुâल्ल पानसेरिया ने शिरकत की, भाजपा की सूरत शहर की मेयर आqस्मता शिरोया भी समर्थन देने पहुंची। इससे चर्चा शुरू हुई है कि क्या अब राज्य में मुख्यमंत्री का विरोध खुद भाजपा में ही ते़ज हो रहा है। पटेल आंदोलन के मुद्दे पर मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल घिरती नजर आ रही हैं और पटेल समाज के साथ समाधान की सभी कोशिशें अब तक नाकाम रही हैं।