हरियाणा में आंदोलन की आड़ में हाई-वे पर रोके वाहन, खेतों में किया रेप


चंडीगढ़ । हरियाणा के मुरथल में महिलाओं के साथ हाई-वे पर छेड़छाड़ और रेप करने का मामला सामने आया है। सोमवार तड़के नेशनल हाई-वे नंबर-१ पर उन वाहनों को रोका गया, जिनमें महिलाएं सवार थीं। उसके बाद उन पर हमला करके महिलाओं को नजदीकी खेतों में ले जाकर उनके साथ रेप किया गया। अंग्रेजी अखबार की एक रिपोर्ट के मुताबिक पुलिस ने इन रिपोट्र्स को अफवाह करार दिया है। पुलिस का कहना है कि ऐसी कोई भी घटना घटित नहीं हुई है। लेकिन चश्मदीदों का कहना है कि करीब १० महिलाओं ऐसे हमले का शिकार हुई हैं।
नजदीकी खेतों में रेप
अखबार ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि करीब तीस से ज्यादा बदमाशों ने सुबह तीन बजे इस घटना को अंजाम दिया। बदमाशों ने दिल्ली-एनसीआर की तरफ जाने वाले वाहनों पर हमला कर दिया। उन वाहनों को आग लगाने की कोशिश की गई। वाहनों से नहीं भाग पाई महिलाओं को खींचकर नजदीकी खेतों में ले गए। उनके कपड़े फाड़ दिए गए और उनके साथ रेप किया गया। कुछ पीडिताएं उस वक्त तक खेतों में नग्न ही रही, जब तक उनके पुरुष साथियों ने उन्हें ढूंढ नहीं लिया। नजदीकी गांव हसनपुर और कुराद गांव के लोग पीडिताओं की मदद के लिए आगे आए। पीडिताओं के लिए कपड़े और वंâबल लेकर आए। साथ ही रिपोर्ट में बताया गया है कि अधिकारियों ने पीडिताओं और उनके परिवार वालों को इज्जत का हवाला देकर रिपोर्ट दर्ज ना करने की सलाह दी है।
पुलिस ने बताया अफवाह
एक अन्य ढाबा मालिक का कहना है कि चार महिलाओं ने उनके ढाबे के पास के पानी टैंक में छुपकर अपने आपको बचाया है। वे सुबह होने तक घंटों उसी टैंक में रही। कई चश्मदीदों ने दावा किया है कि पीडिताओं को पुलिस अधिकारियों ने इस मामले की शिकायत न दर्ज करना के लिए कहा है। उनका कहना है कि अब तो जो होना था वह हो गया।