हमले के बावजूद भारत को पाक से वार्ता जारी रखना चाहिये : कांग्रेस


०वार्ता का स्तर, स्वरूप एवं गंभीरता को निर्धारित करना सरकार की जिम्मेदारी
नईदिल्ली । कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु िंसघवी ने कहा कि पठानकोट हमले के गंभीर उकसावे के बावजूद सरकार को पाकिस्तान के साथ बातचीत बाधित करने की जरूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि यह तय करना सरकार का काम है कि बातचीत किस स्तर, स्वरूप एवं गंभीरता से की जाए। िंसघवी ने आरोप लगाया कि सरकार ने पठानकोट हमले, सुरक्षा ाqस्थति और पाकिस्तान के साथ बातचीत को लेकर किसी भी सूचना को विपक्ष के साथ साझा नहीं किया है।
उन्होंने भाजपा सरकार को आड़े हाथों लेते हुए कहा,कि लिहाजा हम सरकार का यह सुनिाqश्चत करने के लिए आह्वान करते हैं कि मात्र उनके पास जो विशिष्ट विशेषज्ञता है, उसके साथ वे बातचीत जारी रखें और यह भी सुनिाqश्चत करें कि भारत की सुरक्षा में कोई सेंध न लगे। कांग्रेस नेता ने यह भी स्पष्ट कर दिया कि पार्टी ऐसे व्यक्तियों की टिप्पणियों और राय के साथ नहीं है जो प्रवक्ता या निर्णय लेने की प्रक्रिया में शामिल नहीं हैं और जिन्होंने कहा है कि कि विदेश सचिव वार्ता निलंबित की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा में थोड़ी सी भी चूक का कठोरतम शब्दों में भत्र्सना करती है। आखिरकार, भारतीय राष्ट्रीय सुरक्षा सर्वोच्च महत्व की है और इस संबंध में कोई भी अक्षमता, ढिलाई या चूक अक्षम्य है और इसलिए हमने प्रधानमंत्री तथा सरकार से इस विषय पर उच्चतम संभव एवं अभेद्य मानक सुनिाqश्चत करने का आह्वान किया है।