सेशेल्स, मॉरिशस और श्रीलंका से संबंध हमारी प्राथमिकता : मोदी


नई दिल्ली । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मंगलवार को सेशेल्स, मॉरिशस और श्रीलंका की ५ दिनों की यात्रा पर रवाना हो गए। अपनी इस यात्रा पर जाने से पहले पीएम मोदी ने कहा कि इस यात्रा के तहत उनका लक्ष्य तीनों देशों के साथ मधुर संबंध बनाना है। उन्होंने कहा कि १९८१ के बाद किसी भारतीय प्रधानमंत्री की यह पहली सेशेल्स यात्रा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि सेशेल्स से भारत के काफी पुराने संबध रहे हैं। अपने संदेश में उन्होंने कहा कि वह राष्ट्रपति जेम्स मिशेल से मिलने के लिए उत्सुक हैं।
मोदी ने कहा कि वह मॉरिशस के स्वतंत्रता दिवस समारोह में खुद को मुख्य अतिथि बनाए जाने पर गौरवांवित महसूस कर रहे हैं। यह समारोह १२ मार्च को होना है। अपनी यात्रा पर रवाना होने से पूर्व उन्होंने पत्रकारों से कहा कि यह दिन इसलिए भी खास है क्योंकि आज ही महात्मा गांधी ने दांडी यात्रा की शुरुआत की थी। मॉरिशस का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि वह एक छोटा भारत जैसा है और उनका मकसद दोनों देशों के बीच संबंधों को और मधुर बनाना है। पीएम इस दौरे के दौरान श्रीलंका भी जाएंगे। १९८७ के बाद से वह पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं जो श्रीलंका के दौरे पर जा रहे हैं।
श्रीलंका की यात्रा के विषय में जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि वह वहां पर विभिन्न नेताओं और पार्टी प्रमुखों से मुलाकात करेंगे। दोनों देशों के बीच संबंधों को और मजबूत करना और सौहार्दपूर्ण वातावरण तैयार करना उनकी प्राथमिकता है। उन्होंने उम्मीद जताई है कि अपनी इस यात्रा से वह दोनों देशों के बीच नया अध्याय लिखेंगे। नरेंद्र मोदी अपनी यात्रा के अंतिम चरण में श्रीलंका के तमिल बहुल क्षेत्र जाफना का दौरा भी करेंगे। विदेश सचिव एस. जयशंकर ने कहा कि श्रीलंका के साथ मछुआरों की ाqस्थति से लेकर र्आिथक सहयोग तक के तमाम मुद्दे पर बातचीत होगी।