सूरत में डीजी वंजारा ने सरदार पटेल को गन का हार पहनाया, विवाद


सूरत। सूरत में एक कार्यक्रम में आए गुजरात के पूर्व आईपीएस अधिकारी डी जी वंजारा द्वारा सरदार पटेल की प्रतिमा पर पेन-गन हार पहनाए जाने से विवाद उठ खड़ा हुआ है। डीजी वंजारा ने कहा कि कलम लिखने और गन सुरक्षा का प्रतीक है।
ज्ञातव्य है कि 19 जून 2016 को नागरिक सम्मान समिति द्वारा डी जी वंजारा के सम्मान का कार्यक्रम सूरत में आयोजित किया गया था। इस दौरान वंजारा ने कहा कि सरदार पर पाटीदारों का विशेष अधिकार है यह समझना गलत है। उन्होंने आगे कहा कि आसाराम निर्दोष हैं। आसाराम का आरोप अभी तक साबित नहीं हुआ है। आसाराम मात्र षडयंत्र के शिकार हुए हैं। मुझे उन पर आज भी उतनी ही श्रद्धा है।

वंजारा का कार्यक्रम पहले से ही चर्चा में था
इशरत जहां एनकाउंटर मामले में जेल की सजा काट चुके डी जी वंजारा को कुछ दिन पहले ही जमानत पर रिहा किया गया है। रविवार को नागरिक सम्मान समिति द्वारा डीजी वंजारा का सम्मान समारोह सूरत में आयोजित किया गया था। समारोह में आसाराम के करीबी बिल्डर केतन पटेल विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित रहे। केतन पटेल को विशेष अतिथि बनाए जाने से विवाद हो गया। वहीं डीजी वंजारा द्वारा सरदार पटेल की प्रतिमा पर गन का हार पहनाए जाने से मामला और गर्म हो गया।

रैली निकाली गयी
आतंकवादियों को खत्म करने वाले जिन आईपीएस अधिकारियों को सम्मानित किया जाना चाहिए सरकार उन्हें जेल में ठूंस दिया था। इस घटना से पुलिस का मनोबल काफी गिर गया था। रविवार को सूरत के वराछा सरदार पटेल स्मृतिभवन में डीजी वंजारा का सम्मान किया गया। इससे पहले खुली गाड़ी में रैली निकाली गयी। जिसमें वंजारा विशेष रूप से उपस्थित रहे।

” सरदार की प्रतिमा पर पेन-गन का हार पहनाया जाना अपमानजनक है। सरदार पटेल एकता के पक्षधर थे। उन्हें गन का हार पहनाकर क्या साबित करना चाहते हैं। इसे स्पष्ट करें। इस घटना को हल्के में नहीं लिया जाएगा। जिसे अपनी पब्लिसिटी करनी है वो करे, विवाद में रहना हो रहे किंतु बीच में सरदार पटेल को ना घसीटे।”
धार्मिक मालविया, पास कन्वीनर, सूरत