सूखा प्रभावित क्षेत्रों में ट्रेन से पानी पहुंचाएगी सरकार


नई दिल्ली। सूखा प्रभावित क्षेत्रों में पेयजल की गंभीर समस्या को देखते हुए सरकार वहां ट्रेन से पानी पहुंचाएगी। इसके लिए राज्यों को धनराशि मुहैया कराई जाएगी। वेंâद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री बीरेन्द्र िंसह का कहना है कि जरूरी धनराशि का प्रावधान पहले ही कर दिया गया है। जो भी राज्य सूखा प्रभावित क्षेत्रों में ट्रेन या टैंकर के माध्यम से पानी पहुंचाएंगे उसके परिवहन खर्च की भरपाई वेंâद्र करेगा। िंसह ने कहा कि सूखा प्रभावित क्षेत्रों में सरकार ने मनरेगा के तहत निर्धारित १०० दिनों के काम को बढ़ाकर १५० दिन करने का निर्णय लिया है। जैसे ही कोई राज्य सरकार अपने किसी जिले को सूखा प्रभावित घोषित करती है, उसमें निर्धारित कार्य दिवसों की संख्या स्वतः बढ़ जाएगी। ग्रामीण विकास मंत्री ने कहा कि सरकार ने पिछले साल सूखा मुआवजा राशि को डेढ़ गुना कर दिया था। मुआवजा नियमों में भी बदलाव किया गया। पहले आधी फसल खराब होने पर मुआवजा मिलता था, अब ३३ प्रतिशत नुकसान होने पर भी इसका भुगतान होगा। उन्होंने कहा कि कर्नाटक, आंध्र प्रदेश, उत्तर प्रदेश में बुंदेलखंड, महाराष्ट्र के मराठवाड़ा व विदर्भ क्षेत्र में भयंकर सूखा पड़ा है। वेंâद्र संबंधित राज्य सरकारों से लगातार संपर्वâ में है।इस बीच ग्रामीण विकास मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि मनरेगा के तहत ६५ प्रतिशत काम कृषि और कृषि से जुड़े क्षेत्रों में होंगे। इससे सूखे जैसी ाqस्थति से निपटा जा सकेगा।