‘साईं पूजा की देन है महाराष्ट्र का सूखा’ : शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती


नई दिल्ली। द्वारका पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने एक बार फिर विवादित बयान दिया है। उनका कहना है कि महाराष्ट्र के लोग साईं बाबा की पूजा करते हैं और यह सूखा उसी की देन है।

शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने सूखे के लिए साईं पूजा को जिम्मेदार ठहरा दिया है। हरिद्वार में उन्होंने कहा है कि जब भी गलत लोगों की पूजा होने लगती है तब सूखे और अकाल मौत जैसे हालात बनते हैं। वहीं शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर उन्होंने कहा कि अब महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़ेंगे।

स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती ने कहा ‘साईं एक फकीर थे और वो अमंगलकारी थे..जो पूजा करने लायक नहीं हैं और जब उनकी पूजा होती है तब आपदा आती है। इन जगहों पर सूखा, बाढ़ और अकाल मौत होती हैं और महाराष्ट्र में यह सबकुछ हो रहा है। शनि शिंगणापुर मंदिर में महिलाओं का प्रवेश भी दुर्भाग्य साबित होगा। शनि एक क्रूर ग्रह है और उसकी पूजा से महिलाओं के खिलाफ अपराध बढ़ेंगे।’

इससे पहले भी शंकराचार्य साईं को लेकर विवादित बयान देने के लिए चर्चा में रहे हैं। वह पहले भी साईं पूजा का मान्यता देने का विरोध करते रहे हैं। वर्ष 2014 में उन्होंने साईं पूजा का विरोध करने के लिए एक धर्म संसद का भी आयोजन किया था जहां सर्वसम्मति के साईं पूजा का बहिष्कार करने का ऐलान किया गया था।