संसद में विपक्षी दलों का स्मृति विरुदध विशेषाधिकार हनन


-वेमुला खुदकुशी केस में स्मृति को गलत बयानबाजी का करना होगा सामना
नईदिल्ली। हैदराबाद विश्वविद्यालय के छात्र रोहित वेमुला की आत्महत्या के मामले में कांग्रेस, माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी और जनता दल यूनाइटेड ने मानव संसाधन विकास मंत्री स्मृति ईरानी पर गलत बयानबाजी का आरोप लगाते हुए उनके खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाने की घोषणा की है। कांग्रेस ,माकपा और जदयू ने अलग- अलग बयानों में कहा कि ईरानी ने संसद में रोहित वेमुला की आत्महत्या के संबंध में गलतबयानी करके संसद तथा देश को भ्रमित किया है। इन तीनों दलों के अलावा राज्यसभा के मनोनीत सदस्य केटीएस तुलसी ने भी ईरानी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाने की घोषणा की है। कांग्रेस महासचिव मुकुल वासनिक ने कांग्रेस मुख्यालय में आयोजित विशेष संवाददाता सम्मेलन में कहा कि रोहित वेमुला मुद्दे पर संसद में हुई चर्चा का जवाब देते समय ईरानी ने नाटकीय तरीके से अपनी बात रखी और गलत बयानबाजी करके संसद और देश को भ्रमित किया। उन्होंने कहा कि चर्चा के दौरान उम्मीद थी कि मानव संसाधन विकास मंत्री लोगों के जख्मों पर मरहम लगाएंगी लेकिन उन्होंने अपने भाषण के जरिए नमक छिड़कने का काम किया है। उनका भाषण बेहद नाटकीय, तथ्यों से दूर, झूठ का पुिंलदा और गुमराह करने वाला था।
इसी बीच माकपा के महासचिव सीताराम येचुरी ने एक टीवी चैनल को दिए अपने इंटरव्यू में कहा कि ईरानी ने राज्यसभा में गुरुवार को हैदराबाद विश्वविद्यालय और जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय(जेएनयू) मामले पर चर्चा के दौरान रोहित वेमुला की खुदकुशी होने पर उसके कमरे में डॉक्टर के न जाने की बात कही थी जबकि डॉक्टर का कहना है कि वह वहां गयी थीं इसलिए उनकी इस गलतबयानी से संसद को गुमराह किए जाने के मामले में वह विशेषाधिकार हनन का नोटिस देंगे। ईरानी ने कहा था कि रोहित वेमुला को देखने डॉक्टर नहीं गए थे जबकि वहां तैनात डॉक्टर राजश्री का कहना है कि वह सूचना मिलने के तीन से पांच मिनट के बीच वहां पहुंच गई थीं। येचुरी ने यह भी कहा है कि उनकी पार्टी का मानना है कि अगर जेएनयू के छात्रों के खिलाफ देशविरोधी नारे लगाने का कोई सबूत हो तो उनके खिलाफ उचित कानूनी कार्रवाई की जानी चाहिए। इसी तरह जनता दल यूनाइटेड के राज्यसभा सांसद के सी त्यागी और मनोनीत राज्यसभा सदस्य केटीएस तुलसी ने भी श्रीमती ईरानी के खिलाफ दोनों सदनों में विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाने की घोषणा की है। त्यागी ने कहा कि रोहित वेमुला की आत्महत्या के संबंध में दोनों सदनों में ईरानी के बयान के खिलाफ पार्टी और तुलसी सोमवार को विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाएंगे। उन्होंने संसद और राष्ट्र को गुमराह करने के इरादे से ऐसी बयानबाजी की है।
त्यागी ने भी कहा कि ईरानी ने गलत बयान दिया कि रोहित के शव को किसी डॉक्टर ने सुबह तक नहीं देखा और पुलिस भी आत्महत्या के बाद सुबह विश्वविद्यालय पहुंची। विश्वविद्यालय के मुख्य मेडिकल अधिकारी का कहना है कि यह गलत है। उन्होंने कहा कि हम उनके गलत दावे और छात्र के परिजनों को मदद मुहैया कराने की प्रक्रिया में देर करने के खिलाफ मानवाधिकार प्रस्ताव लाएंगे । माकपा महासचिव येचुरी की तरह त्यागी ने कहा कि उन्होंने रोहित की मां राधिका वेमुला से शाम को मुलाकात की है और उन्होंने बताया कि वह दलित हैं जबकि भाजपा नेताओं का दावा कुछ इतर है।