संरा से मसूद अजहर पर प्रतिबंध की भारत प्रयास की संभावना


नईदिल्ली। पठानकोट एयर बेस हमले के बाद पाकिस्तान में जड़ जमाए जैश-ए-मोहम्मद की कथित संलिप्तता सामने आने के बाद भारत एक बार फिर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के तहत जैश सरगना मौलाना मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगवाने के लिए कोशिश कर सकता है। भारत जैश पर प्रतिबंध के लिए वर्ष २००९-१० में कोशिश कर चुका है, पर चीन के रवैये के चलते भारत को सफलता नहीं मिल सकी थी। भारत की सुरक्षा एजेंसियों को विश्वास है कि पठानकोट हमले में अजहर, उसके भाई अब्दुल रऊफ असगर तथा दो अन्य लोगों की लिप्तता है। सूत्रों के अनुसार राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार ए के डोभाल ने अपनी पाकिस्तानी समकक्ष के साथ हमले में जैश की भूमिका का साझा किया है। सूत्रों के अनुसार भारत अजहर के साथ ही हिजबुल मुजाहिद्दीन के सैय्यद सलाहुद्दीन पर भी संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंध के लिए दबाव डाल सकता है। सूत्रों के अनुसार यदि सुरक्षा परिषद के पांच स्थाई देशों में से चार अमरीका, रूस, यूके और प्रâांस पूर्व की तरह ही भारत का समर्थन करने को तैयार हो जाते हैं तो फिर भी चीन अपना अडं़गा लगा सकता है।