शीना बोरा हत्या दोषी इंद्राणी की जमानत याचिका खारिज


-अस्वस्थ्यता दलील विरुद्ध जेल में उपलब्ध पौष्टिक आहार और सेवाओं के चलते
मुंबई। मुंबई की एक सत्र अदालत ने शीना बोरा हत्या मामले में इंद्राणी मुखर्जी की जमानत याचिका खारिज कर दी। इंद्राणी मुखर्जी ने स्वास्थ्य के आधार पर जमानत याचिका दाखिल करते हुए मांग की थी कि सुनवाई का सामना करने के लिए बिगड़ते स्वास्थ्य से उबरने की जरूरत है। सरकारी वकील ने इंद्राणी मुखर्जी की जमानत याचिका का विरोध किया और कहा कि मुखर्जी को पौाqष्टक आहार उपलब्ध कराया जा रहा है। वकील ने कहा कि यदि सरकार जेल में मुंबई हमलों के दोषी अजमल कसाब का ध्यान रख सकती है तो इंद्राणी का भी ध्यान रखा जा सकता है। केन्द्रीय जांच ब्यूरो के वकील भरत बदामी ने कहा कि इंद्राणी स्वास्थ्य और महिला के विशेष कानूनी अधिकार के आधार पर जमानत मांग रही हैं। यह एक उच्च संवेदनशील मामला है और सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए दो महिला सुरक्षाकर्मी २४ घंटे उस पर नजर रखने के साथ ही जेल में सीसीटीवी वैâमरा लगाया गया है। पूर्व में सरकार ने अजमल कसाब की सुरक्षा में काफी रुपए खर्च किए । इसी तरह इंद्राणी को भी सुरक्षा दे रहे हैं।
इंद्राणी के वजन घटने के संबंध मे उन्होंने कहा कि इंद्राणी जेल में घूमती हैं और वैâलोरी को जलाती हैं इसलिए वह अपने वजन घटने के लिए स्वयं जिम्मेदार हैं। उन्होंने अदालत को बताया कि इंद्राणी को जब अत्तूâबर २०१५ में अस्पताल में भर्ती कराया गया तब १२ अलग-अलग डाक्टरों ने उनका इलाज किया और उन्हें सलाह दी गई कि मसालेदार भोजन नहीं करें तथा पर्याप्त आराम करें और उचित नींद लें। उन्होंने कहा कि मुखर्जी को पौाqष्टक आहार दिया जा रहा है, जिसमें सूखे मेवे, फल, दूध और उबली साqब्जयां शामिल हैं। सरकारी वकील ने अदालत को बताया कि अभी इंद्राणी का स्वास्थ्य ठीक है और जब जरूरत पडेगी उन्हें जे.जे. अस्पताल भेजा सकता है। इंद्राणी की तरफ से वकील महेश जेठमलानी ने अदालत में जिरह करते हुए कहा कि पिछले अक्टूबर माह से इंद्राणी के स्वास्थ्य में लगातार गिरावट जारी है इसलिए उनके स्वाथ्य की लगातार जांच होनी जरूरी है। इंद्राणी ऐसी बीमारी से पीड़ित है, जिसके कारण उसके माqस्तष्क तक ऑक्सीजन पहुंचने में रूकावट होती है और इससे उसके माqस्तष्क में आघात हो सकता है। जेठमलानी ने अदालत को बताया कि इंद्राणी मानवता के आधार पर जमानत मांग रही है न कि योग्यता के आधार पर। यही नहीं वह एक गंभीर बीमारी से परेशान हैं। अदालत ने इंद्राणी की जमानत याचिका खारिज करते हुए कहा कि जेल अधिकारियों और स्वास्थ्य अधिकारियों को निर्देश दिया जा सकता है। जरूरत पड़ने पर इंद्राणी निजी डाक्टर या निजी अस्पताल में भी इलाज करवा सकती है। इंद्राणी के पौाqष्टक आहार के लिए कई निर्देश दिए गए हैं। जे.जे अस्पताल के डाक्टरों को हर तिमाही में इंद्राणी की जांच करनी चाहिए और रिपोर्ट अदालत को देनी चाहिए।