विश्वकप-2015 : फाइनल में पहली बार पहुंचा न्यूजीलैंड


– दक्षिण अफ्रीका को ४ विकेट से हराया
– इलियट ने छक्का मारकर टीम को जीत दिलाई
ऑकलैंड। ग्रांट इलियट के आतिशी अर्धशतक की सहायता से न्यूजीलैंड ने दक्षिण अफ्रीका को विश्वकप क्रिकेट के वर्षा बाधित सेमीफाइनल मुकाबले में डकवर्थ लुईस नियम के आधार पर चार विकेट से हराकर पहली बार फाइनल में प्रवेश किया है। बेहद रोमांचक हुए इस मैच में इलियट ने अंतिम ओवर की पांचवीं गेंद पर डेल स्टेन पर छक्का मारकर अपनी टीम को जीत दिलाई। वहीं इस हार के साथ ही दक्षिण अफ्रीका का सपना टूट गया। न्यूजीलैंड अब खिताब के लिए २९ मार्च को मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड पर होने वाले फाइनल में गत चैम्पियन भारत और आस्ट्रेलिया के बीच होने वाले सेमीफाइनल मैच के विजेता से भिड़ेगा।
रिकार्ड सातवीं बार सेमीफाइनल में खेल रहे न्यूजीलैंड ने इलियट की ७३ गेंद में सात चौकों और तीन छक्कों की मदद से खेली नाबाद ८४ रन की जुझारू पारी की बदौलत एक गेंद शेष रहते ही छह विकेट पर २९९ रन बनाकर जीत के २९८ रन के लक्ष्य को हासिल कर लिया। इलियट ने कोरी एंडरसन के साथ पांचवें विकेट के लिए १०३ रन की शानदार साझेदारी भी की। इलियट ने अंतिम ओवर की पांचवीं गेंद पर डेल स्टेन पर छक्का मारकर अपनी टीम को जीत दिलाई। इससे पहले कप्तान ब्रैंडन मैकुलम ने भी सिर्फ २६ गेंद में ५९ रन की आक्रामक पारी खेली।
वहीं इससे पहले टॉस जीतकर बल्लेबाजी करते हुए दक्षिण अफ्रीका ने फाफ डु प्लेसिस (१०७ गेंद में ८२) और कप्तान एबी डिविलियर्स (४५ गेंद में नाबाद ६५) की शानदार पारियों के बाद डेविड मिलर (१८ गेंद में ४९ रन) की तूफानी बल्लेबाजी की सहायता से पांच विकेट पर २८१ रन बनाए। इस लक्ष्य को डकवर्थ लुईस के आधार पर दोबारा तय किया गया क्योंकि ईडन पार्क पर बारिश के कारण लगभग दो घंटे खेल रूकने के कारण मैच को ५० ओवर की जगह ४३ ओवर का करना पड़ा। इससे पहले मिलर ने अपनी पारी में छह चौके और तीन छक्के मारे। वह विश्व कप में सबसे तेज अर्धशतक के रिकार्ड की बराबरी करने से रह गए। उन्होंने डिविलियर्स के साथ चार ओवर में ५५ रन की साझेदारी की। दक्षिण अफ्रीका का स्कोर ३८ ओवर के बाद तीन विकेट पर २१६ रन था लेकिन मिलर की पारी की मदद से टीम ने अंतिम पांच ओवर में ६५ रन जोड़े। इससे पहले दक्षिण अफ्रीका को शुरूआत में परेशानी हुई। तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट (५३ रन पर दो विकेट) ने दोनों सलामी बल्लेबाजों हाशिम अमला को आठवें ओवर तक पवेलियन भेज दिया जबकि टीम का स्कोर ३१ रन ही था। इन दोनों को जीवनदान मिला लेकिन वे इसका फायदा नहीं उठा पाए।
बोल्ट इन दो विकेट के साथ किसी एक विश्व कप में न्यूजीलैंड की ओर से सर्वाधिक विकेट हासिल करने वाले गेंदबाज बने। बोल्ट के इस टूर्नामेंट में सर्वाधिक २१ विकेट हो गए हैं। उन्होंने ज्यौफ एलोट को पीछे छोड़ा जिन्होंने १९९९ में २० विकेट हासिल किए थे।
दक्षिण अफ्रीका की हार में खराब क्षेत्ररक्षण की भी भूमिका रही क्योंकि उसने विरोधी बल्लेबाजों को आउट करने के कुछ अहम अवसर गंवा दिये। इलियट भी दो बार आउट होते होते बचे।
लक्ष्य का पीछा करने उतरी न्यूजीलैंड को मैकुलम ने एक बार फिर तूफानी शुरूआत दिलाई। उन्होंने सिर्फ २२ गेंद में अर्धशतक पूरा किया। स्टेन पर छक्के से शुरूआत करने के बाद उन्होंने वर्नन फिलेंडर के पारी के दूसरे ओवर में भी एक छक्का और दो चौके मारे। मैकुलम ने पांचवें ओवर में स्टेन को निशाना बनाते हुए दो छक्कों और तीन चौकों की मदद से २५ रन बनाये और इस दौरान अर्धशतक भी पूरा किया। न्यूजीलैंड ने पांच ओवर में ७१ रन बनाए। मोर्ने मोर्कल ने मैकुलम को मिड आन पर स्टेन के हाथों कैच कराके कुछ राहत दी। उन्होंने २६ गेंद की अपनी पारी में आठ चौके और चार छक्के मारे।
केन विलियमसन भी मोर्कल की गेंद को विकेटों पर खेलकर पवेलियन लौटे जबकि पिछले मैच में नाबाद दोहरा शतक जडऩे वाले सलामी बल्लेबाज मार्टिन गुप्टिल रोस टेलर के साथ गलतफहमी का शिकार होकर रन आउट हुए जिससे स्कोर तीन विकेट पर १२८ रन हो गया। टेलर भी कुछ देर टिकने के बाद पिछले मैच में हैट्रिक बनाने वाले जेपी डुमिनी की गेंद पर विकेटकीपर ंिक्वटन डि काक को कैच दे बैठे। उन्होंने ३९ गेंद में चार चौकों की मदद से ३० रन बनाए।
इलियट और एंडरसन ने इसके बाद पारी को संभाला। एंडरसन ने फिलेंडर और डुमिनी पर छक्के जड़े। दोनों ने ३१वें ओवर में टीम का स्कोर २०० रन के पार पहुंचाया। डिविलियर्स ने ३२वें ओवर में एंडरसन को रन आउट करने का आसान सा अवसर मौका गंवा दिया। न्यूजीलैंड ने ३३वें ओवर में पावर प्ले लिया और चार ओवर में ३५ रन जुटाए। इस दौरान पारी के ३६वें ओवर में एंडरसन और इलियट ने ताहिर पर चौके जड़कर क्रमश: ४६ और ५३ गेंद पर अर्धशतक पूरे किए। एंडरसन हालांकि मोर्कल की गेंद का हवा में लहराने के बाद डु प्लेसिस को कैच दे बैठे। उन्होंने ५७ गेंद की अपनी पारी में छह चौके और दो छक्के मारे।
न्यूजीलैंड को अंतिम पांच ओवर में जीत के लिए ४६ रन की जरूरत थी। स्टेन ने ४१वें ओवर में ल्यूक रोंची ०८ को रिली रोसेयु के हाथों कैच कराके एक बार फिर दक्षिण अफ्रीका का पलड़ा भारी किया। इसके बाद न्यूजीलैंड को अंतिम ओवर में १२ रन चाहिए थे। डेनियल विटोरी (नाबाद सात) ने पहले स्टेन पर चौका मारा और फिर इलियट ने पांचवीं गेंद पर छक्का जड़कर न्यूजीलैंड को पहली बार फाइनल में पहुंचा दिया \