विजय माल्या को देश से नहीं निकालेगा ब्रिटेन, प्रत्यर्पण को तैयार


नयी दिल्ली : भारतीय बैंकों से 9,000 करोड़ रुपये ऋण लेकर ‘विलफुल डिफाल्टर’ घोषित विजय माल्या ब्रिटेन भाग गये हैं. अब ब्रिटेन ने भारत सरकार से कहा है कि वह विजय माल्या को अपने देश से बाहर नहीं निकालेगी. ब्रिटिश एजेंसियों का कहना है कि भारत ने विजय माल्या का पासपोर्ट रद्द कर दिया है, जबकि वे 1992 से वहां के नागरिक हैं, अत: वहां के नियमानुसार विजय माल्या को देश से नहीं निकाला जा सकता है. हालांकि ब्रिटेन विजय माल्या को भारत प्रत्यर्पित करने के लिए तैयार है.

ब्रिटिश एजेंसियों ने लंदन स्थित भारतीय उच्चायुक्त को बताया कि ब्रिटेन विजय माल्या को वहां से नहीं निकाल सकता है, लेकिन वे उसके प्रत्यर्पण के लिए तैयार हैं. भारत सरकार ने ब्रिटिश सरकार से अनुरोध किया है वि वे विजय माल्या को भारत को सौंप दे. लेकिन इस प्रक्रिया में कितना वक्त लगेगा अभी इस संबंध में कोई जानकारी नहीं दी गयी है.

माल्या अपने डिपोलमेंट पासपोर्ट के साथ विदेश भागे थे. पहले  विदेश मंत्रालय ने ईडी की सिफारिश पर माल्या का पासपोर्ट निलंबित कर दिया. इसके बाद माल्या का पासपोर्ट रद्द कर दिया गया. तीन बार नोटिस के बाद भी माल्या ईडी के सामने हाजिर नहीं हुए. हालांकि उन्होंने पूरे मामले में अपनी बात सामने रखी और बताया कि वो पैसा वापस करना चाहते हैं.   विभिन्न बैंकों से 9000 करोड़ रुपये से अधिक के ऋण लेने के बाद उसे  नहीं चुकाने को लेकर कानूनी कार्यवाही का सामना कर रहे शराब कारोबारी विजय माल्या देश छोड़कर चले गए. माल्या पर विभिन्न बैंकों का लगभग 7800 करोड़ रुपये बकाया है और वे इस मामले में डिफॉल्टर घोषित किये जा चुके हैं.