वरिष्ठ पत्रकार विनोद मेहता का निधन, प्रधानमंत्री ने जताया शोक


नई दिल्ली। देश के जाने माने संपादक और विश्लेषक तथा कई अखबारों एवं पत्रिकाओं की सफलतापूर्वक शुरुआत करने वाले विनोद मेहता नहीं रहे। लम्बी बीमारी के कारण आज उनका ७३ वर्ष की आयु में निधन हो गया। मेहता आउटलुक पत्रिका के संपादकीय अध्यक्ष थे। जिसकी उन्होंने शुरुआत की थी। वे कई महीने से बीमार चल रहे थे और एम्स में भर्ती थे। वे पेâफडे के संक्रमण से पीड़ित थे और जीवन रक्षक यंत्र पर थे। एम्स के प्रवक्ता अमित गुप्ता के अनुसार उनके विभिन्न अंगों के काम बंद कर दिया था।
श्री मेहता ने वर्ष २०११ में अपनी आत्म कथा `लखनऊ ब्वॉय’ लिखी। वे टीवी पर चर्चा करने वालों में लोकप्रिय चेहरा थे। हाल ही में उन्होंने एक और पुस्तक `एडिटर अनप्लग्ड’ लिखी लेकिन दिसंबर में इसके लोकार्पण में हिस्सा नहीं ले सके। श्री मेहता को कुत्तों से काफी प्रेम था और उन्होंने एक गली के कुत्ते को गोद भी लिया था जिसका नाम एडिटर रखा था। इस कुत्ते का जिक्र आउटलुक में उनके लेख में अक्सर आता था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने श्री मेहता के निधन पर शोक प्रकट किया है। मोदी ने ट्वीट किया, “ अपने विचार में स्पष्ट और बेबाक विनोद मेहता को एक शानदार पत्रकार और लेखक के रूप में जाना जायेगा। उनके निधन पर उनके परिवार के प्रति संवेदना प्रकट करता हूं।”