लालू दूसरे राज्यों में भी बनाएंगे महागठबंधन


पटना। बिहार में महागठबंधन की जीत से उत्साहित लालू प्रसाद धर्मनिरपेक्ष विचारधारा के दलों को एक मंच पर लाने की जुगत में जुटने वाले हैं। राजद के राष्ट्रीय अध्यक्ष के रूप में विधिवत ताजपोशी के बाद लालू देश को भाजपा के राजनीतिक कुहासे से मुक्त करने का अभियान चलाएंगे।
शनिवार को पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में राजद प्रमुख ने भाजपा पर शैक्षिक संस्थाओं के भगवाकरण का आरोप लगाते हुए कहा कि इसे रोकना राजद की जिम्मेवारी है। २१ प्रांतों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक में सात राजनीतिक प्रस्तावों पर चर्चा हुई।
राजद की िंचताओं में गरीब, किसान, र्आिथक असमानता, बिहार की अनदेखी और शैक्षणिक संस्थाओं का भगवाकरण प्रमुख है। बैठक में कहा गया कि राजद की लड़ाई अभी खत्म नहीं हुई है। पार्टी देशभर में भाजपा के खिलाफ राजनीतिक विकल्प खड़ा करने की कोशिश करेगी।
कन्याकुमारी से कटक तक सांप्रदायिक शक्तियों का अंत किए बिना राजद चैन से नहीं बैठेगा। स्वूâल-कॉलेजों के सिलबस में कौशल विकास एवं गुणवत्ता पर जोर दिया जाना चाहिए, न कि गोड्से के विचारों को।
राजद का फोकस गरीबों और किसानों पर है। इसके लिए राष्ट्रव्यापी लड़ाई होगी। बुलेट ट्रेन पर जितना पैसा खर्च होगा, उससे गरीबों का भला हो सकता है। पार्टी ने कहा कि वेंâद्र की मोदी सरकार पूंजीपतियों की नुमाइंदगी करती है। राजद ने कहा कि प्रधानमंत्री ग्र्रामीण सड़क योजना समेत कई वेंâद्रीय योजनाओं में वेंâद्र का अंश घटा दिया गया है। यह बिहार के साथ अन्याय है।