राहुल गांधी ने दलितों का पूछा हालचाल, पहुंचे उना


अहमदाबाद। कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी आज गुरूवार को उना के समढियाण गांव में पीडि़त दलितों से मुलाकात की। राहुल गांधी से पहले एनसीपी नेता प्रफुल पटेल उना पहुंचे हुए थे। प्रफुल पटेल ने पीडि़त दलितों के परिवारों को सांत्वना दी। प्रफुल पटेल ने पीडि़त परिवारों को एनसीपी की ओर से दो-दो लाख रूपए देने की घोषणा की। बुधवार को राज्य की मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल उना के समढियाण में पीडि़त एवं उनके परिवारों से मुलाकात की थी।
उना के समढियाण में दलितों का हालचाल जानने आए राहुल गांधी ने दलित परिवारों के साथ चाय भी पी। राहुल गांधी को स्टील की गिलास में चाय दी गयी। राहुल के लिए कोई विशेष व्यवस्था नहीं की गयी थी।
दु:ख की घड़ी में दलित अकेले नहीं हैं : प्रफुल पटेल
एनसीपी नेता प्रफुल पटेल ने कहा कि पीडित परिवारों की बातें सुनकर बहुत दु:ख हुआ। जो घटना घटी है वह शर्मनाक है। दु:ख की इस घड़ी में पीडि़त परिवार अकेले नहीं हैं एनसीपी उनके साथ है। प्रफुल पटेल ने कहा कि राज्य सरकार की ओर से दलितों को न्याय दिलाने का आश्वासन भी नहीं दिया गया। एनसीपी देश के दलितों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है। दलितों से मुलाकात से पहले दीव एयरपोर्ट पर पहुंचे प्रफुल पटेल ने पत्रकारों से कहा कि वे यहां राजनीति करने नहीं बल्कि लोगों को सांत्वना देने आए हैं। गुजरात का सामाजिक तानाबाना बिगड़ता जा रहा है। लंबे समय से गुजरात में ऐसा ही चल रहा है।
पीडि़त परिवारों को दो-दो लाख की मदद
दलितों पर अत्याचार के मुद्दे पर राज्य सरकार निष्फल साबित हुई है। सरकार की निष्फलता के कारण ही ऐसी घटनाएं घटती हैं। घटना के इतने दिनों बाद मुख्यमंत्री का यहां आना अत्यंत दुखद है। प्रफुल पटेल ने पीडि़त परिवारों को दो-दो लाख रूपए देने की घोषणा की।