यमन से दो विमानों में 358 भारतीय वतन लौटे


० मुंबई और कोच्चि पहुंचे विमान
० भारतीयों का स्वागत करने पहुंचे पर्यटन मंत्री
मुंबई। शिया हौथी विद्रोहियों द्वारा यमन में राष्ट्रपति अब्द-रब्बू मंसूर हादी का तख्तापलट के बाद १० अरब देशों की संयुक्त कार्यवाही से उपजे हिंसक संघर्ष में पंâसे ३५८ भारतीय वतन लौट आए हैं। भारतीयों का एक जत्था गुरुवार तड़के साढ़े तीन बजे मुंबई एयरपोर्ट पहुंचा। भारतीय वायुसेना के सी १७ ग्लोबमास्टर विमान से करीब १९० लोगों ने स्वदेश लौटने पर राहत की सांस ली। उधर भारतीय वायु सेना के एक अन्य विमान से १६८ भारतीय भी कोाqच्च लाए गए, यह फ्लाइट बीती रात २ बजे कोाqच्च एयरपोर्ट पहुंची। सूत्रों ने बताया कि पेपरवर्वâ पूरा नहीं होने के कारण जिबूती से मुंबई आने वाली फ्लाइट में देरी हुई। कइयों के पास तो पासपोर्ट भी नहीं था जिस कारण से देरी हुई। यमन से निकाले भारतीयों का स्वागत करने के लिए एयरपोर्ट पर महाराष्ट्र के पर्यटन मंत्री प्रकाश मेहता और सांसद किरीट सोमैया मौजूद थे।
गौरतलब है कि भारत ने संघर्ष प्रभावित यमन में अपने देशवासियों को सुरक्षित बाहर निकालने के अभियान के तहत बुधवार को ३५० लोगों को अदन से बाहर निकालकर उन्हें पड़ोसी देश जिबूती पहुंचाया था. यहां से भारतीय वायु सेना (आईएएफ) के ग्लोबमास्टर परिवहन विमान से उन्हें स्वदेश लाया गया। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरूद्दीन ने कहा कि बाहर निकाले गए ३५० भारतीय नागरिकों में २०६ केरल, ४० तमिलनाडु, ३१ महाराष्ट्र, २३ पाqश्चम बंगाल, २२ दिल्ली, १५ कर्नाटक तथा १३ आंध्र प्रदेश व तेलंगाना के निवासी हैं।