मैगी और नोर नूडल्स के सैंपल फेल


हरिद्वार। खाद्य सुरक्षा विभाग ने छह जांच रिपोर्ट में मैगी को मिस ब्रांड और अनसेफ पाया है। मैगी उत्पादक को नोटिस भेजकर जवाब मांगा है। हरिद्वार में खाद्य सुरक्षा विभाग ने जून २०१५ में जिले के कई स्टोर और शॉिंपग मॉल से मैगी के नमूने लिये थे। जिन्हें जांच के लिए रूद्रपुर ाqस्थत राजकीय खाद्य एवं औषधीय विश्लेषण प्रयोगशाला भेजा था।
जानकारी के अनुसार सैम्पल की मेन्युपैâक्चिंरग पंतनगर, गोवा और लुधियाना (मोगा) में हुई है। अधिकारियों ने बताया मैगी के चार नमूने अनसेफ पाये गए हैं। इनमें एमएसडी (मोनो सोडियम विटामेट) का प्रयोग किया गया है। जबकि खाद्य उत्पाद में इसका प्रयोग नहीं किया जा सकता है। दो नमूनों के लेबल पर किये गए दावे सही नहीं पाये गए हैं। जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी जीसी वंâडवाल के मुताबिक मैगी उत्पादक को जवाब देने के लिए एक महीने का समय दिया गया है। जवाब नहीं मिलने पर खाद्य सुरक्षा अधिनियम के प्राविधान के अनुसार कार्रवाई की जायेगी। हरिद्वार के जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी जीसी वंâडवाल ने बताया कि मैगी के अलावा नोर नाम के नूडल्स के भी तीन नमूनों की जांच रिपोर्ट आई है। जिसमें दो अनसेफ और एक मिसब्रांड का पाया गया है। वहीं मावे के छह सैंपल भी जांच में पेâल हुए हैं।