मुफ्ती के बयान को कांग्रेस ने बताया राष्ट्रविरोधी


नई दिल्ली । जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद द्वारा राज्य के शांतिपूर्ण चुनाव के लिए पाकिस्तान एवं र्हुिरयत को श्रेय दिये जाने के बयान पर राज्यसभा में कांग्रेस ने आपत्ति जताई है। कांग्रेस ने इस बयान को“राष्ट्रविरोधी” करार दिया है। शून्यकाल में कांग्रेस के शांताराम नाइक ने यह मुद्दा उठाते हुए कहा कि सईद ने मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के कुछ ही देर बाद संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए शांतिपूर्ण विधानसभा चुनाव के लिए “सीमा पार के लोगों”, अलगाववादी र्हुिरयत कांप्रेंâस और आतंकवादियों को श्रेय दिया था।
नाइक ने कहा कि यह बयान राष्ट्रविरोधी है और राष्ट्र विरोधी ताकतों का समर्थन कर सईद ने अपनी शपथ का उल्लंघन किया है। उन्होंने कहा कि जम्मू कश्मीर के लोगों, चुनाव आयोग और सुरक्षा बलों के कारण यह चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो पाए लेकिन नए मुख्यमंत्री ने उन्हें कोई श्रेय नहीं दिया है। नाइक ने आरोप लगाया कि जिन २४ मंत्रियों ने शपथ ली है उनमें से एक का भाई र्हुिरयत में है और उसकी पत्नी पाकिस्तानी है।
सईद के इस बयान की विपक्षी सदस्यों द्वारा िंनदा किये जाने के बीच संसदीय कार्य राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि पिछले साल मई में हुए लोकसभा चुनाव और अब विधानसभा चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से कराने का सारा श्रेय जम्मू कश्मीर, लेह एवं करगिल के लोगों, चुनाव आयोग एवं सुरक्षा बलों को जाता है। बाद में कांग्रेस के प्रमोद तिवारी ने भी व्यवस्था के प्रश्न के नाम पर यही मुद्दा उठाते हुए कहा कि मुफ्ती द्वारा इस तरह का बयान दिया जाना संविधान के विरूद्ध है। हालांकि उपसभापति पीजे कुरियन ने उनकी सवाल को यह कहकर खारिज कर दिया कि इस मामले में संसदीय कार्य राज्यमंत्री पहले ही सरकार का रूख स्पष्ट कर चुके हैं।

मायावती ने सईद के बयान का विरोध किया
नई दिल्ली। राज्य में सुचारू तरीके के चुनाव कराये जाने का श्रेय पाकिस्तान और हुर्रियत को दिये जाने के जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद के बयान का विरोध करते हुये बसपा सुप्रीमो मायावती ने आज कहा कि इसका श्रेय चुनाव आयोग को दिया जाना चाहिए। संसद के बाहर संवाददाताओं के साथ बातचीत में मायावती ने कहा कि जम्मू कश्मीर में सफलतापूर्वक चुनाव इसलिए हो सका क्योंकि चुनाव आयोग और मुख्य चुनाव आयुक्त ने इसमें महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। उन्होंने जोर देकर कहा कि कल शपथ लेने वाले सईद द्वारा राज्य में सफलतापूर्वक चुनाव कराये जाने का श्रेय किसी और को दिया जाना सही नहीं है। सईद के बयान पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बयान की मांग को लेकर लोकसभा में विपक्षी सदस्यों ने वॉकआउट किया। बसपा नेता ने जम्मू कश्मीर में भाजपा-पीडीपी गठजोड़ के जारी रहने पर संदेह व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि भाजपा और पीडीपी दोनों की विचारधारा और नीति अलग है। सरकार बनाने के बाद दोनों ने अलग-अलग विचार देना शुरू कर दिया है। मुझे नहीं लगता है कि गठबंधन की यह सरकार लंबे समय तक चलेगी।
पीडीपी-भाजपा गठबंधन की उम्र ज्यादा नहीं : उमर
जम्मू । राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने कहा fिक जम्मू कश्मीर में नवगठित पीडीपी-भाजपा की उम्र ज्यादा नहीं है और यह जल्दी ही टूट जाएगा। सरकार पर सवाल उठाते हुए उन्होंने कहा कि पीडीपी नेता मुफ्ती मोहम्मद सईद और उनकी बेटी इस गठबंधन को अधिक दूरी तक नहीं ले जा सवेंâगे। मुफ्ती द्वारा राज्य के सीएम पद की शपथ लिए जाने के तुरंत बाद पाकिस्तान के समर्थन में दिए विवादित बयान के बाद उमर ने ाqट्वटर पर लिखा है कि इन दोनों ही र्पािटयों ने गठबंधन का गलत पैâसला लिया है महबूबा-मुफ्ती दोनों ही भाजपा को गठबंधन तोड़ने के लिए अपने आप ही मजबूर कर देंगे। दरअसल सीएम पद की शपथ लेने के बाद मुफ्ती मोहम्मद सईद ने कहा था कि राज्य में शांतिपूर्ण मतदान करवाने में पाकिस्तान, आतंकियों और अलगाववादियों ने काफी मदद की है। उनके इस बयान की गर्मी जम्मू कश्मीर से लेकर दिल्ली तक महसूस की जा रही है। उमर अब्दुल्ला ने सीएम की इस बयान पर कड़ी आलोचना की है। उनका कहना है कि राज्य के लोगों की बदौलत चुनाव शांतिपूर्ण संभव हुआ है। इसमें पाकिस्तान का कहीं कोई रोल नहीं है।