मुठभेड़ के दौरान आतंकियों के समर्थन में लगे नारे


श्री नगर। जम्मू-कश्मीर के पंपोर में आतंकवादियों से मुठभेड़ के दौरान स्थानीय लोगों ने जहां आतंकियों के समर्थन में नारे लगाए वहीं कुछ लोगों ने पाकिस्तान समर्थित नारे लगाते हुए आतंकियों को मुजाहिद बताया गया। इस मुठभेड़ में लश्कर-ए-तैयबा की तीन आतंकी मारे गए जबकि सेना के दो वैâप्टन सहित ५ जवान शहीद हो गए। शनिवार शाम को शुरू हुआ एनकाउंटर सोमवार तक चला।
बताया जाता है कि बििंल्डग में छिप कर फायिंरग कर रहे लश्कर-ए-तैयबा के तीन आतंकियों को आर्मी ने सोमवार को मार गिराया था, जबकि एनकाउंटर के दौरान दो वैâप्टन समेत ५ जवान शहीद हो गए। खबरों के मुताबिक एनकाउंटर के वक्त आसपास के इलाकों में आतंकियों को मुजाहिद बताकर उनके समर्थन में नारे लगाए जा रहे थे। बताया जा रहा है कि लाउडस्पीकर्स से नारेबाजी उस वक्त हुई जब इंडियन सिक्युरिटी फोर्सेज बििंल्डग में आतंकियों से मुकाबला कर रही थीं। फरेस्टाबल, दरांगबल, कदलाबल और सेमपोरा जैसे इलाकों की माqस्जदों में सोमवार को आतंकियों के सपोर्ट में नारे लगे। नारों में कहा जा रहा था कि जागो, जागो सुबह हुई, प्रो-पाकिस्तानी नारे जीवे, जीवे पाकिस्तान और प्रो-आजादी नारे हम क्या चाहते हैं- आजादी। सैकड़ों लड़के एंटरप्रेन्योर डेवलपमेंट इांqस्टटयूट की बििंल्डग के आसपास भी नारेबाजी करने पहुंचे। गौरतलब है कि इसी बििंल्डग में आतंकी छिपे थे और सेना एनकाउंटर करने की कोशिश में थी। डीजी प्रकाश मिश्रा के मुताबिक पंपोर में घुसने वाले आतंकी लश्कर से जुड़े हैं। जमात-उद-दावा ने भी पहली बार इस हमले के लिए खुलकर लश्कर-ए-तैयबा का सपोर्ट किया है। गौरतलब है कि आतंकी हाफिज सईद के संगठन जमात-उद-दावा को अमेरिका ने २६/११ हमले के बाद बैन कर दिया था। सोमवार सुबह जमात की सोशल मीडिया सेल के हेड ताहा मुनीब ने ट्वीटर पर एक के बाद एक कई ट्वीट किए। इनमें उसने कहा कि कश्मीरी मुजाहिदीनों ने इंडियन सोल्जर्स को खत्म कर दिया। इसके अलावा मुनीब ने इंडियन फोर्सेजे के खिलाफ लीव कश्मीर जैसे ट्वीट्स भी किए। उसने ट्विट के जरिए कहा कि अगर आप अपने जवान वैâप्टन की मौत नहीं चाहते हैं तो एक ही ऑप्शन है- यहां से चले जाएं। इनमें भारत की तवाही की बात भी कही जा रही थी।