माल्या का पासपोर्ट रद्द, भारत लाने की कोशिश


नई दिल्ली। भारतीय विदेश मंत्रालय ने कई बैंकों का कर्ज चुकाए बिना विदेश जा चुके शराब कारोबारी विजय माल्या का पासपोर्ट रद्द कर दिया है। प्रवर्तन निदेशालय की मांग पर विदेश मंत्रालय ने यह कदम उठाया है। विदेश मंत्रालय ने पासपोर्ट एक्ट, 1967 की धाराओं 10(3)(c) और 10(3)(h) के तहत ये कार्रवाई की है। बैंकों का 9,000 करोड़ से ज़्यादा का बक़ाया लेकर विदेश जा चुके उद्योगपति विजय माल्या को यह तगड़ा झटका है।

विकास स्वरूप ने ट्वीट कर दी जानकारी

भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ट्वीट कर माल्या का पासपोर्ट रद्द करने की जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट किया, ‘विजय माल्या से मिले जवाबों को देखते हुए और प्रवर्तन निदेशालय और हाल ही में उनके ख़िलाफ़ जारी ग़ैर ज़मानती वारंट्स को देखते हुए विदेश मंत्रालय ने उनका पासपोर्ट रद्द करने का फ़ैसला किया है।’ईडी ने उन्हें कई बार पूछताछ के लिए बुलाया था लेकिन हर बार उन्होंने पेशी के लिए और समय मांगा। इसके बाद प्रवर्तन निदेशालय ने उनका पासपोर्ट रद्द करने की मांग की थी।

इससे पहले विदेश मंत्रालय ने माल्या का ईडी की सिफ़ारिश पर माल्या का पासपोर्ट चार हफ्तों के लिए निलंबित कर दिया था। ईडी ने कहा था कि तीन बार नोटिस देने के बावजूद माल्या एजेंसी के सामने हाज़िर नहीं हुए थे। विजय माल्या गत दो मार्च को ब्रिटेन चले गए थें वे राज्य सभा के सदस्य होने के कारण डिप्लोमेटिक वीज़ा के साथ ब्रिटेन रवाना हुए थे।

 

प्रत्यपर्ण के लिए ले रहा विशेषज्ञों की राय

विदेश मंत्रालय का कहना है कि माल्या के प्रत्यपर्ण के लिए क़ानून के विशेषज्ञों से राय ली जा रही है। सूत्रों के मुताबिक़ माल्या चीफ़ पासपोर्ट ऑफ़िसर, फिर हाईकोर्ट और फिर सुप्रीम कोर्ट में इसके ख़िलाफ़ अपील कर सकते हैं लेकिन उनके पक्ष में फ़ैसला आने तक वह इस पासपोर्ट पर कहीं भी यात्रा नहीं कर सकेंगे। लंदन में भी उनका ठहरना क़ानूनन अवैध हो गया है।

माल्या ने 6868 करोड़ रुपए लौटाने की पेशकश की थी

बैंकों के करोड़ों रुपए लेकर लंदन में बैठे शराब कारोबारी विजय माल्या ने अब सुप्रीम कोर्ट में एक नई डील पेश कर दी थी। माल्या ने बैंकों से लिए गए 9000 करोड़ के लोन की वापसी के लिए सुप्रीम कोर्ट को बताया कि वह इनमें से 6868 करोड़ लौटाना चाहते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने जब माल्या के वकील से पूछा कि वह भारत कब वापस लौट रहे हैं, तो उन्होंने कोई जबाव नहीं दिया।

विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र सरकार विजय माल्या को देश वापस लाने के लिए बचनबद्ध है, ताकि उनके विरुद्ध न्यायिक कार्रवाई की जा सके। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा था, ‘सरकार विजय माल्या पर न्यायिक कार्रवाई करने के लिए उन्हें वापस लाने को बचनबद्ध है। हम उन्हें वापस लाने से संबंधित कदमों पर विचार कर रहे हैं।’