महबूबा मुफ्ती ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ


जम्मू। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने सोमवार को जम्मू एवं कश्मीर की मुख्यमंत्री के रूप में पद की शपथ ली। वह राज्य की पहली महिला मुख्यमंत्री हैं। महबूबा (56) को राज्यपाल एन.एन. वोहरा ने पद की शपथ दिलाई।

वह राज्य की 13वीं मुख्यमंत्री बन गई हैं। उनके मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते ही राज्य में पिछले तीन माह से अधिक समय से चला आ रहा राज्यपाल का शासन खत्म हो गया।

पीपल्स डेमोक्रेटिक पार्टी को एक क्षेत्रीय ताकत के रूप में तब्दील करने वालीं जमीनी स्तर की लोकप्रिय नेता महबूबा मुफ्ती अपने प्रख्यात पिता के नक्शे कदम पर चलते हुए जम्मू-कश्मीर की कमान अपने हाथ में ले चुकी हैं। वह इस राज्य की पहली महिला मुख्यमंत्री बन गई हैं। विधि स्नातक महबूबा (56) ने अपने पिता के साथ वर्ष 1996 में कांग्रेस से जुड़कर मुख्यधारा की राजनीति में कदम रख दिया था। उस समय आतंकवाद अपने चरम पर था।

पीडीपी के प्रसार का श्रेय महबूबा को दिया जाता है। कुछ पर्यवेक्षकों का तो यह तक मानना है कि आम जनता और विशेषकर युवाओं को अपने साथ जोड़ने के मामले में वह अपने पिता से भी आगे निकल गईं। उन पर नरम-अलगाववादी कार्ड खेलने का भी आरोप लगता रहा है। पीडीपी ने अपनी पार्टी के क्षंडे के लिए हरे रंग का चयन किया और अपने चुनाव चिन्ह के रूप में उसने वर्ष 1987 के मुस्लिम यूनाइटेड फ्रंट के कलम-दवात को ही चुना।

एक-दूसरे से पूरी तरह विपरीत विचारधारा रखने वाले दो दलों पीडीपी और भाजपा के गठबंधन से गठित सरकार का नेतृत्व महबूबा के लिए चुनौतीपूर्ण है क्योंकि वह अपने पिता की मरहम लगाने की विरासत को आगे ले जाने की पूरी कोशिश करेंगी। दो बेटियों की मां महबूबा की छवि एक दबंग नेता की है और उन्होंने अपना पहला विधानसभा चुनाव कांग्रेस उम्मीदवार के रूप में अपने गृहक्षेत्र बिजबेहड़ा से जीता था।