मराठी पर मचा है महाभारत, शिवसैनिकों ने दिया वड़ा पाव, शोभा डे बोलीं `वेरी टेस्टी’


– पुलिस ने बढ़ाई शोभा डे के घर की सुरक्षा
मुंबई। मुंबई के मल्टीप्लेक्सों में मराठी फिल्मों को प्राइम टाइम में दिखाने के मामले में शोभा डे के टवीट को लेकर भड़की शिवसेना ने गुरुवार को उनके घर के बाहर प्रदर्शन किया। शिवसेना की ओर से भेजे गए वड़ा पाव और मिसल पाव के गिफ्ट के लिए शोभा डे ने टवीट कर शिवसेना को शुक्रिया कहा। साथ ही अपने घर के बाहर मुंबई पुलिस द्वारा मुहैया करवाई गई सुरक्षा को लेकर भी शोभा डे ने टवीट किया और मुंबई पुलिस की तारीफ की। दरअसल महाराठ्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार ने मुंबई के सभी मल्टीप्लेक्स में शाम ६ से ९ बजे के शो में एक मराठी फिल्म दिखाने का आदेश दिया था। इसके बाद शोभा डे ने ट्विटर पर इस फैसले की कड़ीr आलोचना की थी। शोभा डे ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार को मल्टीप्लेक्स के लिए फरमान जारी करने से पहले उनसे बात करनी चाहिए थी। क्या सरकार उन्हें सब्सिडी देने के लिए तैयार है? इसके अलावा शोभा डे ने यह भी लिखा कि उन्हें मराठी फिल्में पसंद हैं, पर उन्हें यह कब और कहां देखना है, यह उन्हें खुद तय करने दें। उन्होंने लिखा कि बस `दादागीरी’ है। शोभा डे के इस ट्विट से शिवसेना भड़की हुई है। गुरूवार सुबह शिवसेना के कार्यकर्ता डंडे लेकर शोभा के घर के बाहर पहुंचे और शोभा के खिलाफ जमकर नारेबाजी करने लगे। इसके बाद शिवसैनिकों ने सिक्योरिटी के हाथों वड़ा पाव और मिसल पाव की थाली शोभा डे के पास पहुंचाई और शोभा डे ने इसे ले भी लिया। बाद में शोभा ने टवीट किया, थैंक्यू शिवसेना, डिलिसियस। बहरहाल इस मामले को गर्माता देख मुंबई पुलिस ने शोभा डे की सुरक्षा बढ़ा दी। पुलिस ने उनके घर के बाहर गार्ड तैनात किए हैं ताकि किसी तरह की अनहोनी से बचा जा सके।
– शोभा के टवीट से गर्मायी राजनीति
शोभा के इन टवीट से राजनीति गर्मा गई। शिवसेना के एक विधायक ने विधानसभा में उनके खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव रखा जिसपर इस लेखिका को नोटिस जारी कर दिया गया। हालांकि नोटिस मिलने के बाद शोभा ने एक और टवीट किया और लिखा अब एक विशेषाधिकार प्रस्ताव मुझसे माफी की मांग कर रहा है। कम ऑॅन। मैं एक गर्वीली महाराष्ट्रियिन हूं और मराठी फल्में पसंद करती हूं। हमेशा से हूं और हमेशा रहूंगी। उधर शिवसेना का कहना है कि शोभा ने मराठी खान-पान और यहां की संस्कृति का मजाक उड़ाया है।

 

`बालासाहेब दादागीरी न करते तो बुर्के में होती पेज थ्री पार्टी’
मुंबई। मुंबई के मल्टीप्लेक्सों में मराठी फिल्मों को प्राइम टाइम में दिखाने का विरोध करने वाली लेखिका शोभा डे को शिवसेना ने आड़े हाथों लिया है। पार्टी के मुखपत्र `सामना’ में शोभा के बयान को महाराष्ट्र का अपमान बताया गया है। `सामना’ में शोभा डे के लिए विवादास्पद भाषा का प्रयोग किया गया है। इसमें लिखा है, `शाबाश शोभा आंटी शाबाश। महाराष्ट्र में जन्म लेकर आप मराठी के प्रति बहुत अच्छी फर्ज अदायगी कर रही हो। शोभा आंटी का टिवटर पर ट्यूं-ट्यूं करना महाराष्ट्र का दुर्भाग्य है।’ संपदाकीय में आगे लिखा गया है, `मराठी की जड़ पर कुछ मराठी लोग ही काल बनकर आएं तो क्या किया जाए? लेकिन दादागीरी का विषय `आंटी’ ने निकाला है इसीलिए कहना है। इतिहासकाल में छत्रपति शिवाजी महाराज और वर्तमानकाल में शिवसेना प्रमुख बाला साहेब ठाकरे ने दादागीरी नहीं की होती तो शोभा आंटी के पहले और अब की पीढ़ियां पाकिस्तान में जन्मी होती और हो सकता था कि तब पेज थ्री की पार्टी उन्हें बुर्के में ही मनानी पड़ती। `सामना में लिखा है, `सच तो यह है कि शोभा आंटी की शोभा करने में देर नहीं लगेगी। लेकिन शोभा आंटी के मुंह में कुछ तो तीखा वड़ा-पाव, चटपटा मिसल ठूंसो। प्राइम टाइम की यह शुरुआत साबित हो।’ दरअसल, महाराठ्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस के नेतृत्व वाली महाराष्ट्र सरकार मुंबई के सभी मल्टीप्लेक्स में शाम ६ से ९ बजे के शो में एक मराठी फिल्म दिखाने का आदेश दिया था। इसके बाद शोभा डे ने ट्विटर पर इस फैसले की कड़ीr आलोचना की थी। शोभा डे ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार को मल्टीप्लेक्स के लिए फरमान जारी करने से पहले उनसे बात करनी चाहिए थी। क्या सरकार उन्हें सब्सिडी देने के लिए तैयार है? इसके अलावा शोभा डे ने यह भी लिखा कि उन्हें मराठी फिल्में पसंद हैं, पर उन्हें यह कब और कहां देखना है, यह उन्हें खुद तय करने दें। उन्होंने लिखा कि बस `दादागीरी’ है। उन्होंने और भी ऐसी बातें लिखीं, जिससे मामले ने तूल पकड़ लिया। शिवसेना के एक विधायक की शिकायत पर शोभा डे के खिलाफ विधानमंडल द्वारा विशेषाधिकार हनन का नोटिस जारी कर दिया गया।

 

शिवसेना का प्रर्दशन, शोभा ने कहा थैक्यू शिवसेना
मुंबई। महाराष्ट्र के मल्टीप्लेक्स में मराठी फिल्म दिखाए जाने के मुद्दे पर राइटर शोभा डे शिवसेना के निशाने पर हैं। शिवसेना के कार्यकर्ता डंडे लेकर शोभा के घर के बाहर पहुंचे और शोभा के खिलाफ जमकर नारेबाजी करने लगे। इसके बाद शिवसैनिकों ने सिक्योरिटी के हाथों वड़ा पाव और दही मिसल की थाली शोभा डे के पास पहुंचाई और शोभा डे ने इसे ले भी लिया। बाद में शोभा ने ट्वीट किया, थैंक्यू शिवसेना, डिलिसियस। वहीं संजय राउत ने फिर कहा कि शोभा डे ने जो बयान दिया है वो महाराष्ट्र का अपमान है। ऐसे लोगों को महाष्ट्रीयन कहे जाने का अधिकार नहीं है। अगर आपको हमारे कल्चर से नफरत तो आप जाइये। आज सुबह शोभा डे ने ट्वीट कर कहा था कि- मुझे चेतावनी दी गई है कि शिवसेना मोर्चा मेरे घर की तरफ बढ़ रहा है। बहरहाल, इस मामले को गर्माता देख पुलिस ने शोभा डे की सुरक्षा बढ़ा दी। पुलिस ने उनके घर के बाहर गाड्र्स तैनात किए हैं ताकि किसी तरह की अनहोनी से बचा जा सके।