भूमि बिल के खिलाफ विपक्ष का मार्च, राष्ट्रपति को सौंपेंगे ज्ञापन


नई दिल्ली । भूमि अधिग्रहण विधेयक के खिलाफ एकजुट विपक्ष ने मोर्चा खोल दिया है। मंगलवार को कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की अगुवाई में नौ दलों के नेता दिल्ली में मार्च करेंगे और राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी को ज्ञापन सौंपेंगे। इस मार्च में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन िंसह भी शामिल होंगे। ९ दलों के नेता संसद भवन से राष्ट्रपति भवन तक मार्च करेंगे और नए भूमि विधेयक के खिलाफ राष्ट्रपति को ज्ञापन सौंपेंगे। मार्च का समन्वय जेडीयू अध्यक्ष शरद यादव कर रहे हैं। मार्च में कांग्रेस के अलावा सीपीएम, सीपीआई, टीएमसी, समाजवादी पार्टी, बीएसपी, जेडीयू, आरजेडी और डीएमके हिस्सा लेगी।
इस मार्च में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन िंसह, जेडीएस चीफ एचडी देवेगौड़ा, लेफ्ट नेता सीताराम येचुरी, डी राजा, टीएमसी के दिनेश त्रिवेदी, एसपी के रामगोपाल यादव, डीएमके की कनिमोई, आईएनएलडी के दुष्यंत चौटाला के शामिल होने की भी उम्मीद है। डीएमके सांसद तिरुचि शिवा ने बताया कि हम इस बिल के खिलाफ हैं। बिल को कानून बनने के खिलाफ अपनी मजबूत लड़ाई की प्रक्रिया में हम रैली में हिस्सा लेंगे और राष्ट्रपति को ज्ञापन देंगे। दूसरी ओर, भाजपा नेता मुख्तार अब्बास नकवी ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि कांग्रेस चाहती है कि देश उसके रास्ते पर चले, लेकिन देश विकास के रास्ते पर चलेगा।