भारत की परमाणु शस्त्र नीति विरुद्ध ओबामा रुख ‘समझ की कमी’ः विकास स्वरूप


नईदिल्ली। परमाणु सुरक्षा शिखर सम्मेलन में भारत के परमाणु हथियारों को लेकर अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की टिप्पणियों को विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने ‘समझ की कमी’ बताते हुए खारिज कर दिया।उल्लेखनीय है कि भारत एवं पाकिस्तान की परमाणु शस्त्र नीतियों को एक ही तराजू में तौलते हुए ओबामा ने कहा है कि दोनों देशों को अपने सैन्य सिद्धांतों को गलत दिशा में जाने से रोकना सुनिाqश्चत करना चाहिए। इससे पहले भारत ने अपने सैन्य सिद्धांत पर ओबामा को याद दिलाया कि उसने कभी किसी पर हमला नहीं किया और आज भी वह एक स्पष्ट नीति पर चल रहा है कि वह परमाणु हथियारों का पहले प्रयोग नहीं करेगा। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने वािंशगटन में परमाणु सुरक्षा शिखर सम्मेलन के संबंध में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में ओबामा की टिप्पणियों का उल्लेख किए जाने पर कहा कि ऐसा प्रतीत होता है कि भारत के रक्षा सिद्धांत को लेकर समझ की कुछ कमी है। प्रवक्ता ने कहा कि ऐसा कोई उदाहरण नहीं है कि भारत ने कभी किसी देश के विरूद्ध सैन्य आक्रमण किया हो। भारत की नीति परमाणु शस्त्र पहले इस्तेमाल नहीं करने की है। उन्होंने कहा कि इसलिए परमाणु सुरक्षा शिखर सम्मेलन में अमरीकी राष्ट्रपति की टिप्पणियों कि कुछ देशों द्वारा छोटे परमाणु शस्त्रों का निर्माण उनके चोरी होने के खतरे को बढ़ाने वाला है, को दरअसल वैश्विक संदर्भ में देखा जाना चाहिए।