भाजपा से कैबिनेट मंत्री, कांग्रेस से दिग्गज कर रहे प्रचार


० शाह और जेटली ने संभाला चुनावी मोर्चा, संघ तैयार
नईदिल्ली। दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी (आप) की बढ़ती ताकत को रोकने के लिए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के शीर्ष रणनीतिकारों ने ‘चुनावी युद्ध’ की कमान संभाल ली है। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह और वेंâद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने पार्टी की रणनीति को अपने हाथ में ले लिया है। अमित शाह ने प्रचार कर रहे वेंâद्र के नेताओं और दिल्ली इकाई के कार्यकर्ताओं से सीधे उन्हें रिपोर्ट करने को कहा है। आम बजट की तैयारी में व्यस्त होने के बावजूद अरुण जेटली भी चुनाव की रणनीति पर रोजाना दो घंटे खर्च करने वाले हैं।
० संघ के भरोसेमंद लोगों को उतारा
शाह टीम में अपने पुराने और भरोसेमंद साथियों को बुलाया है. इनमें से कई दिल्ली के बाहर के हैं और लोकसभा चुनाव से पहले उत्तर प्रदेश और झारखंड विधानसभा चुनाव में पार्टी की रणनीति पर काम कर चुके हैं. अंग्रेजी अखबार के मुताबिक इनमें विष्णु दत्त शर्मा, राकेश जैन, राघवेंद्र, रघुनाथ कुलकर्णी, शेर िंसह और महेंद्र पांडे शामिल हैं. ये सभी राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) से जुड़े हैं और अलग-अलग बीजेपी इकाइयों से जुड़े हैं।

० ७० सीटें, ७० आरएसएस प्रचारक!
इन लोगों को दिल्ली के अलग-अलग जिलों का चुनावी कामकाज सौंपा है। भाजपा नेता का कहना है कि अमितभाई ने जमीनी स्तर पर काडर और बूथ-स्तर के कार्यकर्ताओं से जुड़े संघ के लोगों और दूसरे प्रदेशों के लोगों पर भरोसा जताया है। इसमें दिल्ली के नेताओं का न के बराबर रोल है। अमित शाह रोज सुबह अशोका रोड दफ्तर में अपनी टीम के साथ बैठक करते हैं। इसके अलावा करीब ७० पूर्णकालिक संघ प्रचारकों को हर विधानसभा के काम पर बारीक नजर रखने को कहा गया है।

० प्रचार में जुटा अकाली दल
वेंâद्रीय मंत्रियों की टीम और बीजेपी सांसदों की फौज तो प्रचार के काम में जुटी ही है, अब बीजेपी की पुरानी सहयोगी अकाली दल भी दंगल में उतर गई है। अपने कोटे की चारों सीटें जीतने के लिए पंजाब के अकाली नेताओं व कार्यकर्ता जोर-शोर से जुट गए हैं। पंजाब के मुख्यमंत्री प्रकाश िंसह बादल और उप-मुख्यमंत्री सुखबीर िंसह बादल खुद यहां वैंâप कर चुनाव प्रचार अभियान पर निगरानी रख रहे हैं। उन्होंने अपने सभी मंत्रियों व नेताओं को लाल बत्ती वाली गाड़ी और गनमैन लेकर चुनाव प्रचार में नहीं जाने की हिदायत दी।

किरण के गले में इन्फेक्शन, चुप रहकर किया प्रचार
नईदिल्ली। दिल्ली ाqवधानसभा में भाजपा की मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार किरण बेदी बुरी तरह गले के इंपेâक्शन से जूझ रही हैं। इस वजह से बुधवार को वह चुनाव प्रचार के दौरान ज्यादातर वक्त शांत ही रहीं। करोल बाग और राजेंद्र प्लेस में चुनाव प्रचार के वक्त किरण बेदी अधिकतर समय शांत ही रहीं। भाजपा पार्टी ने कहा था कि बेदी ७ फरवरी से पहले दिल्ली में ७० रैलियां करेंगी, लेकिन इसकी संभावना बिल्कुल नजर नहीं आ रही। वहीं दूसरी ओर भाजपा का कहना है कि वह जीत दर्ज करने के बाद जनता से मुलाकात करेंगी। बेदी ने गुरुवार को करोल बाग से पार्टी के प्रत्याशी योगेंद्र चांदोलिया और राजेंद्र प्लेस से पार्टी के प्रत्याशी सरदार आर. पी. िंसह के लिए रोड शो और प्रचार किया।