बेरोजगार युवाओं पर आईएस की नजरें


नई दिल्ली। इस्लामिक स्टेट के सबसे खतरनाक आतंकी संगठन के निशाने पर अब भारत के बेरोजगार युवा है। वैश्विक स्तर पर कई देशों के लिए चुनौती बन चुके आईएस कई राज्यों में युवाओं के ग्रुप से सीधे संपर्वâ में है और धीरे-धीरे उनका जबर्दस्ती मत परिवर्तन किया जा रहा है। यह खुलासा खुफिया एजेंसियों ने आईएस आतंकी मोहसिन इकबाल से पूँछताछ के बाद किया है। जिसे कुछ दिनो पहले दिल्ली में गिरफ्तार किया गया था। कहा जा रहा है कि सुरक्षा एजेंसियां आईएस से जुड़े कई और युवाओं को शीघ्र गिरफ्तार कर सकती हैं। प्रâांस के साथ भारत के गहरे रिश्ते और इस्लामिक स्टेट के खिलाफ भारत सरकार के सख्त रुख को देखते हुए आईएस अब भारत के खिलाफ गतिविधियों को तेज कर रहा है। आईएस हैंडलर सोशल मीडिया के जरिए भारत के अलग-अलग हिस्सों में ऐसे युवाओं से संपर्वâ कर रहे हैं, जिनके विचार जेहादी हैं। इसके साथ ही बेरोजगार युवाओं से संपर्वâ कर उन्हें रुपये का लालच दिया जा रहा है। इसके बाद आईएस हैंडलर इन युवाओं से संपर्वâ बढ़ाकर जेहाद करने के लिए उनका ब्रेनवॉश करता है ताकि वह भारत में दहशत पैâला सके। सुरक्षा एजेंसियों की पूछताछ में मोहसिन इब्राहिम ने खुलासा किया कि आईएस विशेष तौर पर वेस्ट यूपी, उत्तराखंड, दिल्ली, हैदराबाद, जम्मू-कश्मीर में युवाओं के संपर्वâ में है। मोहसिन ने बताया कि उसने १० जनवरी को मुजफ्फरनगर में चारों आतंकियों को ५० हजार रुपये दिए थे।
सबसे पहले हैदराबाद से आईएस से जुड़े एक युवा को गिरफ्तार किया था, जो सीरिया भी होकर आया था। वहीं गणतंत्र दिवस से ठीक पहले दिल्ली स्पेशल सेल ने हरिद्वार से आईएस से प्रेरित चार आतंकियों को गिरफ्तार किया था। ये सभी आइआइटी रुड़की के पूर्व में छात्र थे और सोशल मीडिया के जरिए आईएस हैंडलर शफी अरमार के संपर्वâ में आए थे। हरिद्वार में हुई चार आईएस आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद से फरार चल रहे आईएस आतंकी मोहसिन इब्राहिम को गुरुवार को दिल्ली पुलिस ने आईएस बीटी बस अड्डे से गिरफ्तार किया था। मोहसिन ने खुलासा किया कि आईएस भारत में आइआइटी एवं तकनीकी दक्ष युवाओं की तलाश कर रहा है ताकि उन्हें ट्रेिंनग देकर भारत में एक बड़ा नेटवर्वâ तैयार किया जा सके।