बिहार टॉपर्स घोटाला : काउ की स्पेलिंग भी नहीं लिख पायी रूबी राय, गिरफ्तार


पटना। बिहार में हुए टॉपर्स घोटाले में रूबी राय को मामले की जांच कर रही स्‍पेशल टास्‍क फोर्स (एसटीएफ) ने गिरफ्तार कर लिया है। शनिवार को ही रूबी राय बिहार विद्यालय परीक्षा समिति द्वारा बनाई गई एक्‍पर्ट कमेटी के सामने पेश हुई थी। अभी तक रूबी राय कमेटी द्वारा पेश होने के लिए भेजे गए समन को नजरअंदाज कर रही थीं। रूबी उनकी मेधा की जांच के लिए बनाई गई विशेषज्ञों की समिति के सामने पेश हुईं। विशेषज्ञों ने पाया कि वे अधिकांश सवालों के जवाब नहीं दे पाईं। इस आधार पर उनका पूर्व का रिजल्ट रद्द कर दिया गया। पुलिस ने उसे बोर्ड ऑफिस के परिसर से ही गिरफ्तार किया।
गौरतलब है कि रूबी राय इस साल की बारवीं (आर्ट्स) की परीक्षा की टॉपर घोषित हुई थी और उसके इंटरव्‍यू के बाद ही मामले का खुलासा हुआ और जांच शुरू हुई। इस घोटाले में रूबी पहली छात्रा हैं जिनकी गिरफ्तारी हुई है। इस मामले में अगले कुछ दिनों में अन्य टॉपर छात्रों को भी फिर से बुलाया जाएगा और पूछताछ की जाएगी। पुलिस ने रूबी को गिरफ्तार करने के पहले इस तथ्य से संबंधित साक्ष्य जुटाए थे कि रूबी रॉय के टॉप करने के पीछे पैसे का लेन-देन हुआ था। इस जांच का नेतृत्व कर रहे पटना के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मनु महाराज ने शनिवार को एक संवाददाता सम्मलेन में बताया कि दरअसल बच्चा राय ने अपनी बेटी शालिनी को भी टॉप कराने का पूरा जुगाड़ कर लिया था। इसके लिए लल्कस्वर से डील भी हो गई थी। शालिनी बिहार बोर्ड में दसवीं की परीक्षा में टॉपर रही हैं। अब इस मामले की भी जांच हो रही है कि उसने टॉप कैसे किया। मनु महाराज ने माना कि बिहार बोर्ड में तीन तरह के घोटाले चल रहे थे। एक जो परीक्षा में धांधली को अंजाम देकर पास करने का और फिर फर्स्ट डिवीज़न और टॉप कराने का धंधा था। इसके अलावा कॉलेजों को सम्बद्धता देने का भी मामला था जिसमें लल्कस्वर और उनकी पत्नी ने अपने रिश्तेदारों और दलालों के माध्यम से पिछले कुछ सालों में करोड़ों का वारा न्यारा किया। परीक्षा के रिजल्ट के आधार पर कॉलेजों को दी जाने वाली सहायता राशि में भी भारी बंदरबांट चलता था जिसमें ऊपर से नीचे तक यही लोग शामिल थे। इस बीच शुक्रवार को पूछताछ के दौरान मामला इतना गरम हो गया कि उषा सिन्हा ने बच्चा राय को दो तमाचे जड़ दिए। इस पूछताछ के दौरान सभी एक-दूसरे पर दोषारोपण कर रहे थे लेकिन पुलिस के सवालों के सामने अपने गुनाह भी कबूलते गए।