पूर्वोत्तर मे रेल नेटवर्क से भारत देगा चीन को टक्कर


नईदिल्ली ।अरुणाचल प्रदेश को लेकर चीन की दावेदारी से निपटने के लिए भारत ने पूर्वोत्तर क्षेत्र में अपनी ताकत बढ़ाने के लिए अपना रेल नेटवर्वâ मजबूत करने की तैयारी कर ली है। यह जानकारी रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने दी है। बताते चलें कि बीते शनिवार को रक्षा मंत्री मनोहर र्पिरकर ने भी अरुणाचल प्रदेश में रेलवे स्टेशन के निर्माण की जानकारी दी थी। बता दें कि अरुणाचल प्रदेश की १,१२६ किमी सीमा चीन से लगी हुई है। चीन इस राज्य को दक्षिणी तिब्बत का हिस्सा बताकर अपना दावा करता रहा है। र्पिरकर ने कहा था कि ‘समझौता ज्ञापन (एमओयू) का मसौदा तैयार है और जल्द ही इस पर हस्ताक्षर होंगे।’ हालांकि उन्होंने इस संदर्भ में और जानकारी नहीं दी थी। उन्होंने कहा था कि परियोजना के बारे में रेल मंत्री सुरेश प्रभु को विस्तृत जानकारी दे दी गई है। मालूम हो, चीन के विदेश विभाग की प्रवक्ता हु सुनिंयग ने गत बृहस्पतिवार को कहा था, ‘चीन और भारत के बीच पूर्वी सीमा को लेकर बहुत बड़ा विवाद है। यह एक ऐसा तथ्य है जिससे इंकार नहीं किया जा सकता।’ बावजूद इसके शनिवार को र्पिरकर ने कहा था कि, ‘अरुणाचल प्रदेश के संदर्भ में भारत-चीन के बीच सीमा विवाद में कमी आई है।