पार्टी छोड़ने के लिए मुझे किया जा रहा अपमानित : मयंक गांधी


नईदिल्ली । आम आदमी पार्टी के भीतर मचा घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। अपने ब्लॉग से पार्टी में हड़वंâप मचाने वाले राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्य और महाराष्ट्र के संयोजक मयंक गांधी ने शनिवार को फिर एक खुलासा किया है। अपने नए ब्लॉग में मयंक गांधी ने लिखा है कि पार्टी छोड़ने के लिए उन्हें अपमानित किया जा रहा है। मयंक गांधी ने अपने ब्लॉग में लिखा है प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव की तरह मुझे भी निशाना बनाया जा रहा है। कुछ लोग पार्टी छोड़ने के लिए मुझे जलील कर रहे हैं। इतना ही नहीं उन्होंने ये भी लिखा है कि सोशल नेटवा\कग साइट्स पर मेरे खिलाफ मुहिम शुरू की गई है। उन्होंने आरोप लगाया कि आशीष खेतान समेत महाराष्ट्र के कुछ असंतुष्ट लोग मेरे खिलाफ बोलना भी शुरू कर दिया है। इसके अलावा दिल्ली के नीति निर्माताओं ने तो मुझे बीबीएम (ब्लैकबेरी मैसेंजर) ग्रुप से भी अलग कर दिया है। अभी और बहुत कुछ सामने आएगा और अंत में मुझे इतना अपमानित किया जाएगा कि मैं पार्टी छोड़ दूंगा। योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण के लिए भी यही योजना बनाई गई थी, लेकिन पार्टी में बने रहकर दोनों ने इस योजना को विफल कर दिया था। मेरे ऊपर कीचड़ उछाले जाएंगे, देखता हूं कि मैं इसे सह पाता हूं या नहीं।
मयंक गांधी ने लिखा है कि मेरा ब्लॉग किसी व्यक्ति विशेष या नेतृत्व को लेकर नहीं है। यह सिर्पâ पारर्दिशता को लेकर है कि हम वैâसे काम करते हैं। गांधी ने लिखा है कि ‘अगर आपने मेरे पहले ब्लॉग को ध्यानपूर्व पढ़ा होगा तो उसमें सिर्पâ एक झूठे आदेश को चुनौती दी गई थी। ४ मार्च की बैठक का जिक्र करत हुए उन्होंने लिखा है कि मैंने पारर्दिशता के उच्च सिद्धांतों को ध्यान में रखते हुए ही बैठक की बात और निष्कर्षों को अपने ब्लॉग पर लिखा। ये हमारे कार्यकर्ताओं के लिए था। गांधी ने लिखा है कि न तो ये कोई विद्रोह है, न ही किसी नेतृत्व के खिलाफ है और न हीं मैं लोगों का ध्यान आर्किषत करना चाहता हूं। उन्होंने लिखा है कि अरिंवद केजरीवाल बेशक इस देश के लोगों के लिए एक उम्मीद हैं और मैंने उनसे बहुत कुछ सीखा है।
उल्लेखनीय है कि मयंक ने ५ मार्च को अपने ब्लॉग में योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण को पीएसी से निकाले जाने के लिए सीधे-सीधे केजरीवाल को जिम्मेदार ठहराया था। इसके बाद आशीष खेतान ने मयंक गांधी पर कटाक्ष करते हुए ाqट्वटर पर लिखा था, ‘कुछ लोग सुबह-शाम टीवी इंटरव्यू देंगे, कुछ दिल्ली और फिर देश के विकास के लिए दिन-रात काम करेंगे। कुछ लोग ब्लॉग लिखेंगे, कुछ इतिहास लिखेंगे। विडंबना यह है कि हजारों लोग, जिन्होंने अपने खून-पसीने से इस पार्टी को बनाया है, वे न लेख लिख पाते है और न ही टीवी इंटरव्यू की कला में माहिर हैं।’ वहीं महाराष्ट्र से पार्टी की नेता अंजलि दमानिया ने मयंक गांधी के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।