पानी और दवा मुफ्त करने के बाद भी सरकार को मुनाफाः केजरीवाल


नई दिल्ली। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरिंवद केजरीवाल ने एक श्रोता के सवाल, लोगों को मुफ्त में चीजें देने की राजनीति पर कहा कि मैं बनिया हूं, घाटे में कभी नहीं जाता। दिल्ली को भारी मुनापेâ में ले आए हैं। हम ४२ हजार करोड़ के बजट में से मात्र २ हजार करोड़ की साqब्सडी दे रहे हैं। यह पैसा भी बेहतर प्रबंधन के कारण है। सामाजिक क्षेत्र में निवेश की जरूरत है, यह सबसिडी नहीं है। जनता को नि:शुल्क दवा देना, नि:शुल्क जांच करना निवेश ही है। केजरीवाल ने कहा कि लोग मुफ्त पानी को लेकर सवाल उठाते हैं। मेरा मानना है कि यह सरकार की जिम्मेदारी है। हर घर को जीवन बचाने के लिए जितना पानी जरूरी है, वह सरकार को उपलब्ध कराना चाहिए। इसीलिए २० हजार लीटर पानी नि:शुल्क दे रहे हैं। पानी की बचत हुई और भ्रष्टाचार पर लगाम के चलते १७६ करोड़ की अतिरिक्त आय भी हुई। बीस हजार लीटर से ज्यादा खर्च करने पर पूरा पैसा वसूला जाएगा। इससे पानी की बचत हुई। तीन मिलियन गैलन पानी की प्रतिदिन बचत होती है। दिल्ली में २०१७ में दिसम्बर तक हर घर में नल से पानी आएगा, अब यही लक्ष्य है।
केजरीवाल ने कहा कि चुनाव घोषणा पत्र के ७० में से २० बड़े वादे पूरे कर दिए हैं। ये कोई जुमला घोषणा पत्र नहीं, हमारे लिए गीता और बाइबल की तरह पवित्र है। अपने मोबाइल पर घोषणा पत्र रखता हूं, रोजाना सुबह उसे पढ़ता हूं। उन्होंने दिल्ली जल बोर्ड भ्रष्टाचार, पुल निर्माण में बचत, बिजली वंâपनियों पर नकेल, नि:शुल्क दवा जांच, मोहल्ला ाqक्लनिक, पॉली ाqक्लनिक, २ हजार करोड़ की साqब्सडी जैसे विषयों पर अपनी सरकार के कदमों की जानकारी दी और दिल्ली में ऑड ईवन फॉर्मूले में जनता की भागीदारी की तारीफ भी की।