पाटीदार आंदोलन : पुलिस दमन के बाद आत्महत्या करने वाले युवक की अंतिम यात्रा निकली


लालजी पटेल सहित 27 पाटीदारों के खिलाफ शिकायत
सूरत में वराछा को छोड़ शेष जगह स्थिति सामान्य, दुकानें खुली रही
सूरत। महेसाणा में जेल भरो आंदोलन के दौरान हिंसक वारदातें होने के बाद पाटीदारों द्वारा सोमवार को गुजरात बंद का ऐलान किया गया था। सूरत में वराछा को छोड़कर शेष जगहों पर जनजीवन सामान्य रहा। वराछा में बंद का आशिंक असर दिखाई दिया। हीरा बाजार, कपड़ा बाजार सहित शाला-कालेज चालू रहे।
रविवार को जेल भरो आंदोलन के बाद सूरत के पूना कुंभारिया (समजुबा सोसायटी) में रहने वाले भावीन मनसुख खूंट नामक युवक ने जहर पी लिया था। भावीन को निजी होस्पिटल में भर्ती कराया गया था जहां देर रात उसकी मौत हो गयी थी। सोमवार को सुबह नवी सिविल होस्पिटल में भाविन का पोस्ट मार्टम किया गया। इसके बाद अंतिम यात्रा निकाली गयी। अंतिम यात्रा में भारी संख्या में पाटीदार समाज के लोग शामिल हुए। वराछा सहित शहर में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गयी है।
जय सरदार, जय पाटीदार नारे के साथ निकली अंतिम यात्रा
भावीन मनसुख खूंट के घर से उसकी अंतिम यात्रा निकाली गयी। जिसमें पाटीदार समाज के लोग भारी संख्या में शामिल हुए। कांग्रेस के कार्यकर्ता भी अंतिम यात्रा में शामिल हुए। भाविन के घर से श्मशान तक जय सरदार, जय पाटीदार के नारे के साथ अंतिम यात्रा निकाली गयी। पास कन्वीनर धार्मिक मालविया ने बताया कि मृतक भाविन खूंट पास का सक्रिय कार्यकर्ता था। भाविन ने जेल भरो आंदोलन में हिस्सा लिया था। धार्मिक मालविया ने पुलिस पर दमन का आरोप लगाया है।
वहीं दूसरी ओर हिंसाग्रस्त महेसाणा में स्थिति तनावपूर्ण है। एसपीजी प्रमुख लालजी पटेल सहित 27 पाटीदार अग्रणियों के खिलाफ शिकायत दर्ज करायी गयी है। रविवार को महेसाणा में हिंसा भड़कने के बाद कफ्र्यू लगा दिया गया था। पुलिस फायरिंग, लाठीचार्ज, पथराव, तोडफ़ोड और आगजनी के बाद सोमवार को गुजरात बंद का ऐलान किया गया था। गुजरात बंद को ध्यान में रखते हुए राज्य में सुरक्षा व्यवस्था को कड़ी कर दी गयी थी। जगह-जगह पुलिस काफिले को तैनात किया गया है। पाटीदार अग्रणियों और इक_ा हुई भीड़ के खिलाफ 37 धाराओं के साथ गंभीर आरोप लगाए गए हैं।
सूरत में 24 तक धारा 144 लागू रहेगी
सूरत शहर-जिले में तोडफोड, आगजनी की घटनाओं के बाद जिला कलेक्टर द्वारा धारा 144 लागू कर दी गयी। शहर-जिले में 24 अपै्रल तक धारा 144 लागू रहेगी। हिंसा को देखते हुए एसटी प्रशासन भी सतर्क हो गया है। वराछा से होकर गुजरने वाली बसों को बंद कर दिया गया है। बस चालकों को हिंसक परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए सावधानी बरतने की सलाह दी गयी है।
खरवरनगर-सरथाणा बीआरटीएस बंद
सोमवार को होने वाले पालिका के कार्यक्रमों को रद्द कर दिया गया। वहीं दूसरी ओर हिंसा को देखते हुए खरवरनगर-सरथाणा बीआरटीएस बसों का आवागमन भी दिनभर बंद रहा। इससे पहले हुए आंदोलन में बीआरटीएस बसों और रूटों को भारी नुकसान हुआ था। सोमवार को नाना वराछा में आंगनवाडी, प्राथमिक शाला, कम्युनिटी हाल और तालाब का लोकार्पण होने वाला था किंतु परिस्थिति को ध्यान में रखते हुए कार्यक्रम को रद्द कर दिया गया है। हाल में सूरत के शाला-कालेजों में परीक्षाएं चल रही हैं। पाटीदार आंदोलन को ध्यान में रखते हुए शाला-कालेजों मे कड़ी सुरक्षा व्यवस्था की गयी थी। सोमवार को बंद के ऐलान के दौरान शाला-कालेजों में शांतिपूर्ण माहौल में परीक्षाएं ली गयी। रविवार को अचानक गुजरात बंद का ऐलान किए जाने से अभिभावक और छात्र असमंजस में पड़ गए थे।