पाकिस्तानी वोट बलास्ट : 3 दिन बाद तक ऑन था आतंकियों का सैटेलाइट फोन


नई दिल्ली । नए साल के जश्न से ठीक पहले गुजरात के पोरबंदर तट पर जलकर डूबने वाली पाकिस्तानी बोट को लेकर जांच एजेंसियों ने चौका देने वाले खुलासे किए हैं। बोट डूबने के तीन दिन बाद तक नाव पर सवार संदिग्ध आतंकियों के सैटेलाइट फोन चालू थे। एक अंग्रेजी अखवार के अनुसार इन दोनों नंबरों को संदिग्धों ने बोट पर उयपोय किया था। बोट डूबने के बाद मिली टोqक्नकल रिपोर्ट में इस बात का दावा किया गया है। दोनों नंबरों को कई महीने से नेशनल टोqक्नकल रिसर्च संगठन (एनटीआरओ) की निगरानी पर रखा गया था। इन नंबरों के आधार पर ही कोस्ट गार्ड को समंदर में बोट की हरकत के बारे में पता चला था।
इन फोन पर थाइलैंड और यूएई के नंबरों से फोन किया जाता था। एनटीआरओ ने इस बात की आशंका जताई थी कि ये नंबर किसी स्मगिंलग रैकेट के हैं और ये लोग किसी बड़े सौदे को अंजाम दे सकते हैं। उल्लेखनीय है कि कोस्ट गार्ड ने इस मामले में दोनों नंबरों के आधार पर जानकारी दी थी कि पोरबंदर में तट पर मौजूद बोट पर ४ लोग देखे गए, जिन्होंने कोस्ट गार्ड की चेतावनियों को नजरअंदाज कर दिया। लेकिन इससे पहले ही कोस्टगार्ड उन तक पहुंच पाती नाव सवारों ने बोट को धमाके से उड़ा दिया।