पत्नी की मौत के बाद संपत्ति पर पति का हक नहीं


नई दिल्ली।सुप्रीम कोर्ट ने अपने एक महत्वपूर्ण पैâसले में कहा है कि अगर किसी संदिग्ध ाqस्थति में पत्नी की मौत हो जाती है तो पति या ससुराल पक्ष उसकी संपत्तियों और स्त्रीधन पर अपना हक नहीं जता सकता।
मुख्य न्यायाधीश तीरथ िंसह ठाकुर, न्यायर्मूित ए के सिकरी और न्यायर्मूित आर भानुमति की पीठ ने स्पष्ट किया है कि अगर शादी के सात साल के भीतर किसी महिला की संदिग्ध परिाqस्तथियों में मौत हो जाती है तो उसकी संपत्ति उसके बच्चों या उनके न होने पर उसके मायके के लोगों को दे दी जाएगी।
हालांकि, न्यायालय ने यह भी कहा कि अगर सामान्य परिाqस्थतियों में महिला की मौत होती है तो उसके ससुराल पक्ष के लोग उसकी संपत्ति पर अपना दावा कर सकते हैं। सुप्रीम कोर्ट ने दहेज निवारण अधिनियम की धारा ६ का जिक्र करते हुए कहा कि शादी के तीन महीनों के भीतर दहेज में मिले सामान को वधु को सुपुर्द किया जाना चाहिए। महिला का पति या उसके ससुराल वाले यदि उसकी चल-अचल संपत्तियों को उसके हवाले नहीं करते तो उनपर मुकदमा चलाया जा सकता है।
क्या है मामला?न्यायालय ने यह पैâसला एक आदमी और उसके परिवारवालों के ओर से दायर की गई याचिका की सुनवाई करने के बाद सुनाया। इस मामले में शादी के १५ महीनों के भीतर ही महिला की संदिग्ध परिाqस्थतियों में मौत हो गई थी और वे पत्नी के घरवालों को उसकी संपत्ति वापस नहीं करना चाहते थे।