पठानकोट हमले में जब्त अमरीकी दूरबीन की होगी पड़ताल


नईदिल्ली। पठानकोट एयरबेस में छह आतंकवादियों द्वारा हुए हमले में प्रयुक्त दूरबीनों से मालुम हुआ है कि वे अमरीका र्नििमत थी । इस संबंध की तहकीकात के लिए भारत अमरीका की मदद ले सकता है। राष्ट्रीय जांच एजेन्सी का मानना है कि इसका सीधा अर्थ यही है कि इन दूरबीनों को जैश-मोहम्मद ने या तो अफगानिस्तान के अमरीकी वैâम्प से या फिर पाकिस्तानी सेना के भंडार से चुराया था। पाकिस्तानी सेना खुद भी अमरीका में बने उपकरणों का इस्तेमाल करती है। सूत्रों के अनुसार राष्ट्रीय जांच एजेंसी अब अमरीका से यह पता करने की कोशिश में है कि ये दूरबीने जैश-ए-मोहम्मद के पास वैâसे पहुंची। दूरबीनों पर अमरीकी सीरियल नम्बर हैं। एनआईए ने सेन्ट्रल फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी से उन एक-४७ राइफल्स के सीरियल नम्बर का भी पता लगाने को कहा है जो आतंककारियों के कब्जे से मिली हैं। एनआईए को काफी मात्रा में कपड़ें, जूतें समेत ऐसा सामान मिला है जो आतंकवादियों के पाकिस्तान से सम्बंधित होने की पुाqष्ट करता है।