पंजाब में छाए केजरीवाल, बनना चाहते हैं मुख्यमंत्री


जालंधर । पंजाब में क्या आए केजरीवाल कि लोग उनके दीवाने हो गए। आम आदमी पार्टी की रैली में रिकार्डतोड़ भीड़ ने कांग्रेस तथा अकालियों को सकते में डाल दिया। यहां तक कि कांग्रेस के कद्दावर नेता जगमीत बराड़ ने ट्वीट कर रैली की तारीफ तक कर दी। जगमीत बराड़ के इस ट्वीट के बाद दिल्ली से आप नेता अलका लांबा ने ट्वीट किया कि बराड़ कांग्रेस के सीनियर नेता होकर आम आदमी पार्टी की प्रशंसा कर रहे है।
गौरतलब है कि पंजाब के मुक्तसर में हुई आम आदमी पार्टी की रैली से पार्टी नेता खासे उत्साहित हैं। आप मान रही है कि साल २०१७ में उनकी ही सरकार बनेगी। आप के इस विश्वास से राजनीति में जैसे भूचाल आ गया हो। कांग्रेस-अकाली सोच में पड़ गए हैं कि अगर पंजाब के लोग केजरीवाल को मुख्यमंत्री के रूप में देखने की सोचने लगे तो उनका क्या होगा।
वहीं एक सर्वे के मुताबिक ५० पर्सेंट लोग चाहते हैं कि पंजाब में आप की सरकार बने। यह तादाद और बढ़ सकती है यदि केजरीवाल सीएम वैंâडिडेट घोषित कर दिए जाएं। सर्वे के बारे में कहा जा रहा है कि यह पार्टी सर्मिथत सर्वे है जबकि पार्टी के आला नेता कह रहे हैं कि इसका पार्टी से कोई लेना देना नहीं। दो निजी सर्वे एजैंसियों द्वारा किए सर्वे में कहा गया है कि पंजाब में ५० फीसदी आप, २८ फीसदी कांग्रेस और २२ फीसदी अकाली दल गठबंधन की सरकार चाहते हैं। यदि केजरीवाल को सीएम वैंâडिडेट घोषित किया जाता है तो यह प्रतिशत ७२ फीसदी तक हो जाता है।
यानी केजरीवाल अपनी पार्टी से २२ज्ञ् ज्यादा पॉप्युलर हैं। एजैंसी के मुताबिक सर्वे में तीन हजार लोगों को शामिल किया गया। इसमें पंजाब के दो हजार और दिल्ली के एक हजार लोग शामिल हैं। दोनों राज्यों के लोगों से सवाल किए गए हैं। दिल्ली के ६० फीसदी लोगों का कहना है कि केजरीवाल दिल्ली नहीं छोड़ें, वह यहां अच्छा काम कर रहे हैं लेकिन पंजाब के लोगों की डिमांड हैं।
सर्वे के मुताबिक ४० फीसदी अकाली दल वोटर भी केजरीवाल को पंजाब का मुख्यमंत्री चाहते हैं। वहीं ३५ फीसदी कांग्रेसी वोटरों का मुख्यमंत्री पद के लिए केजरीवाल को समर्थन है। सर्वे के मुताबिक केजरीवाल सबसे पॉप्युलर पंजाब के रूपनगर जिले में हैं। यहां ८८ज्ञ् लोग उन्हें मुख्यमंत्री चाहते हैं जबकि अमरेंद्र िंसह के गढ़ पटियाला में केजरीवाल सबसे कम लोकप्रिय दिखे जहां ४७ज्ञ् लोग उन्हें मुख्यमंत्री देखना चाहते हैं।