धार्मिक हिंसा बर्दाश्त नहीं करेंगी सरकार: मोदी


नईदिल्ली । चौतरफा हमले झेल रहे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आखिरकार साफ कर दिया कि उनकी सरकार किसी भी तरह की धार्मिक हिंसा बर्दाश्त नहीं करेगी और ऐसा करने वालों को सख्त कार्रवाई का सामना करना होगा।
प्रधानमंत्री ने मंगलवार को दिल्ली में ईसाई समाज के एक कार्यक्रम में कहा कि संविधान में हर धर्म के लिए सम्मान है और भारत में लोगों को धार्मिक  आस्था की पूरी आजादी है। सभी धर्मों के प्रति आदर-सम्मान रखना ही हमारी सही पहचान है। fिपछले साल वेटिकन सिटी में दो भारतीय ईसाई समाजसेवियों को ‘संत’ का दर्जा मिलने पर उनके सम्मान में आयोजित इस कार्यक्रम में मोदी ने कहा, ‘मेरी सरकार किसी र्धािमक समूह के सरेआम या छिपकर किसी भी तरह की िंहसा कोबर्दाश्त नहीं करेगी।’ उल्लेखनीय है कि देशभर में लव जिहाद, घर वापसी और र्धािमक जगहों पर हमले के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर चुप्पी साधने के आरोप लग रहे थे। यहां तक कि अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा कि भारत की र्धािमक असहिष्णुता का आलम यह है कि महात्मा गांधी देख लें तो स्तब्ध रह जाएंगे। ओबामा के इस बयान के बाद एक प्रमुख अमेरिकी अखबार ने अपनी संपादकीय में नरेंद्र मोदी की चुप्पी को खतरनाक बताया था।