देवी दुर्गा के अपमान पर संसद में घमासान


नई दिल्ली। मानव संसाधन विकासमंत्री स्मृति ईरानी के एक और बयान पर विवाद हो गया है। लोकसभा में बुधवार को स्मृति ईरानी ने जेएनयू में महिषासुर वध के विरोध में आयोजित होने वाले कार्यक्रम का जिक्र करते हुए कहा कि दलित और पिछड़े वर्ग के छात्र मां दुर्गा का अश्लील चित्रण करते हैं। इस मुद्दे पर आज राज्यसभा में हंगामा हुआ। विपक्ष इस मुद्दे पर स्मृति ईरानी से माफी की मांग कर रहा है।

स्मृति ईरानी ने पढ़कर सुनाया पर्चा
दरअसल, स्मृति ईरानी ने एक पर्चा पढ़कर सुनाया था कि आयोजन करने वाले छात्र इस विषय पर क्या राय रखते हैं। स्मृति के इस बयान पर कांग्रेस सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया।

कांग्रेस की माफी की मांग
कांग्रेस के नेता आनंद शर्मा ने कहा कि जिसने दुर्गा मां के बारे में ऐसा कहा उसे आप गिरफ्तार कीजिए। सरकार आपकी है, लेकिन सदन में यह अपमानजनक बातें आपने क्यों पढ़ीं। जब तक माफी नहीं होती हम सदन नहीं चलने देंगे। कांग्रेस ने साथ ही यह मांग भी कि इसे सदन की कार्यवाही से निकाला जाए।

स्मृति की सफाई
इस पर स्मृति ईरानी का कहना है कि वह तथ्य को सामने रख रही थीं। यह सरकार का नहीं, जेएनयू का दस्तावेज है। मैं भी दुर्गा की पूजा करती हूं, मैंने दुख के साथ यह पर्चा पढ़ा। सफाई मांगी गई इसलिए यह पढ़कर सुनाया गया।