दूल्हा दुल्हन ने अंग्रेजी में लिए सात वचन


बागपत (उत्तरप्रदेश) । बागपत के बावली गांव में हुआ परिणय सांस्कृतिक मिलन का साक्षी बना। एक साधारण शादी की खबर इस मायने में असाधारण है कि करीब चार दशक पूर्व भारत छोड़ अमेरिका में जा बसने वाले पिता की पुत्री ने अपने पैतृक गांव में शादी करने का पैâसला किया। इस पैâसले में उनके अमेरिकी हमसफर ने न सिर्पâ रजामंदी दिखाई, बाqल्क उत्साहपूर्वक पूरे कार्यक्रम की अगुवाई भी की।इस हाइप्रोफाइल शादी में अहम यह रहा कि नवदंपती को सात पेâरों के सात वचन अंग्रेजी में पढ़वाए गए। दूल्हे ने कहा, आईविल प्रोटेक्ट यू फारएवर, तो दुल्हन बोली, आई विल बी विद यू। यानी कि मैं हमेशा तुम्हारी रक्षा करूंगा और मैं हमेशा साथ रहूंगी। डॉ. िंसह और डेबी की बेटी सेरा व बेटा रयान है। दोनों का जन्म अमेरिका में ही हुआ है। बेटी सेरा र्निसग प्रोपेâशन से जुड़ी हैं। हाल ही में उन्होंने अलबामा के पुलिसकर्मी ग्रांट से शादी करने का पैâसला किया। शादी की तैयारियां चल रही थीं कि डॉ. कर्णपाल के पिता चौधरी दीप िंसह का स्वास्थ्य बिगड़ गया। उन्हें भारत आना पड़ा तो सेरा व ग्रांट समेत अन्य सदस्य भी उनके साथ आ गए। जब भारत आ गए तो यही शादी का पैâसला कर लिया।
परिजनों ने बताया कि सेरा व ग्रांट की इच्छा थी कि उनकी शादी भारतीय परंपरा के अनुसार की जाए क्योंकि पहले भी यह जोड़ा भारतीय शादियों में शिरकत करता रहा है। वैदिक परंपरा के अनुसार पेâरों से पहले हवन किया गया। इसके बाद दूल्हा-दुल्हन को विवाह मंडप में लाया गया, जहां तमाम रस्म अदायगी के साथ उन्हें पति-पत्नी के रूप में स्वीकृति दे दी गई।