दुष्कर्मी को आम जनता मार सकती है गोलीः डीजीपी सिंह


जींद। दुष्कर्म की बढ़ती घटनाओं से चिंतित हरियाणा के डीजीपी डॉ. केपी िंसह ने कहा है कि अगर अपराधी रेप जैसी वारदात को अंजाम देता है या फिर किसी संपत्ति को जलाता है तो आम आदमी को ऐसे अपराधी को जान से मारने का अधिकार है। डीजीपी जींद में पंचायती राज और पुलिस के कार्यक्रम में बोल रहे थे।उनके इस बयान के बाद वे विवादों में घिर गए हैं। डीजीपी के मुताबिक अगर आगे से कोई ऐसा आंदोलन प्रदेश में होता है तो, उपद्रवियों को कड़ा जवाब दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि पुलिस ने तो वर्दी पहनी है, उसकी डयूटी बनती है। लेकिन आम आदमी भी इस प्रकार के मामलों में अपराधी की हत्या कर सकता है। डीजीपी की मानें तो ऐसे मामलों में कानून अधिकार देता है कि वो मारने की कोशिश करने वाले की जान ले ले। दरअसल हरियाणा में पिछले कुछ समय के अपराध की घटनाओं में बढ़ोतरी देखने की मिली है, पुलिस और प्रशासन की ओर से उठाए गए कदम फिलहाल नाकाफी साबित हो रहे हैं। वहीं जाट आरक्षण के दौरान हुई िंहसा के बाद पुलिस-प्रशासन की जमकर किरकिरी हुई थी। पुलिस पर लापरवाही बरतने के गंभीर आरोप लगे हैं। डीजीपी डॉ. के पी िंसह १९८५ बैच के आईपीएस अधिकारी हैं और उन्हें जाट आंदोलन के बाद हरियाणा का डीजीपी नियुक्त किया है। जाट आंदोलन के दौरान हरियाणा के डीजीपी यशपाल िंसघल थे, जिन्हें मामले को सही से हैंडल नहीं करने की वजह से आंदोलन के बाद पद से हटा दिया गया था और फिर केपी िंसह को डीजीपी नियुक्त किया गया।