दुनियाभर में 16 हजार से अधिक परमाणविक औजार


नई दिल्ली। ईरान एवं विश्व की ६ बड़ी शक्तियों के बीच वर्तमान समझौते से लगता है कि ईरान एवं पश्चिमी देश के बीच नाभिकीय तकनीक मामले को दुबारा हल किया जा सकता है। नाभिकीय समर्थ देशों द्वारा संग्रहित नाभिकीय हथियारों के विश्लेषण में बताया है कि ९ देशों द्वारा १६ हजार से अधिक ऐसे औजारों का निर्माण किया जा चुका है। लगभग ९४ प्रतिशत ये औजार अमेरिका एवं रूस में है। वर्तमान में दुनिया भर में ३१ देश बिजली उत्पादन के लिए नाभिकीय ऊर्जा का उपयोग करते है। विश्वभर में कुल मिलाकर १६ हजार ३५० एटमी हथियार है तथा १२ हजार २०० अन्य औजार है अभी तक तैनात युद्धक हथियारों की संख्या ४,१५० है। विश्व के नाभिकीय बलों में ७,३०० एटमी हथियार, प्रâांस ३००, ब्रिटेन २२५, इजराइल ८०, पाकिस्तान १००-१२०, भारत ९०-११०, चीन के पास २५०, उत्तरकोरिया के पास ६-८ एवं रूस के पास ८,००० नाभिकीय बल है।