दलित वोटरों को स्टैंड अप इंडिया से लुभा रहे प्रधानमंत्री


-उप विस चुनाव में राजनीतिक दलों की धर्म, जाति पर समर्थन की तैयारियां
लखनऊ। उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों के मद्देनजर धर्म, जाति और दलित वोटों को अपनी ओर साधने के लिए राजनैतिक दल तैयारियों में जुट गये हैं। स्टैंड अप इंडिया कार्यक्रम की शुरुआत के मौके पर प्रधानमंत्री ने अहम वोटरों को ध्यान में रखते हुए पूरे अभियान को दलितों के लिए सर्मिपत किया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस कार्यक्रम में सभी १७ दलित सांसदों की एक तरह से मंच पर लोगों के बीच मौजूदगी यह दिखाने की कोशिश कि वैâसे वह दलितों को राजनीति में बढ़ावा दे रहे हैं। प्रदेश में दलित वोटरों की काफी बड़ी संख्या है । अभी तक यहां मायावती की पार्टी बीएसपी को दलितों की बड़ी पार्टी के रूप में देखा जाता है। ऐसे में प्रधानमंत्री मोदी के लिए दलित वोटरों को अपनी ओर खींचना बड़ी चुनौती होगी। यूपी में कुल २० फीसदी दलित वोटर हैं। प्रदेश में वर्तमान में दस दलित सांसद हैं जिनमें मिश्रिख से अंजू बाला, हरदोई से अंशु वर्मा राबट्र्सगंज से छोटेलाल, जालौन से भानु प्रताप िंसह वर्मा, हाथरस से राजेश कुमार दिवाकर, इटावा से अशोक कुमार दोहरे, मोहनलालगंज से कौशल किशोर, बासगांव से कमलेश पासवान, शाहजहांपुर से कृष्णा राज, बाराबंकी से प्रियंका िंसह रावत, कौशांबी से विनोद कुमार सोनकर, लालगंज से नीलम सोनकर सांसद, मछलीशहर से राम चरित्र निषाद, बहराइच से सावित्री बाई पुâले, नगीना से यशवंत िंसह, बुलंदशहर से भोला िं