जैश का दफ्तर सील, कई आतंकी भी गिरफ्तार


दवाब के चलते पाक ने की कार्रवाई….
इस्लामाबाद। अंतर्राष्ट्रीय दवाब के चलते पाकिस्तान ने आतंकवादियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए जैश-ए-मोहम्मद के दफ्तर को सील कर दिया। इसके साथ ही कहा जा रहा है कि अनेक आतंकियों को गिऱफ्तार भी किया गया है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री कार्यालय ने बयान जारी करते हुए कहा कि आतंकवादी संगठन के कार्यालयों का पता लगाकर उन्हें सील किया जा रहा है। इस बयान में पठानकोट एयरबेस आतंकी हमले का जिक्र करते हुए आगे यह भी कहा गया है कि सरकार हमले की आगे की जांच के लिए एक विशेष जांच दल को भारत के पठानकोट वायुसैनिक अड्डे पर भेजना चाहती है। पठानकोट हमले में भारत की ओर से बढ़ रहे कार्रवाई के दबाव और विदेश सचिव स्तर की वार्ता रद्द होने की ाqस्थति को देखते हुए पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ ने बुधवार को एक बार फिर उच्च स्तरीय बैठक बुलाई। बैठक में देश के अंदर आतंकवादी गतिविधियों पर पूरी तरह से रोक लगाने पर चर्चा हुई। बैठक के बाद पाकिस्तान सरकार की ओर से जारी एक विज्ञाqप्त में कहा गया है कि पाकिस्तान अपनी सीमा के अंदर आतंकवाद को पूरी तरह खत्म करने के लिए प्रतिबद्ध है और किसी भी तरह से आतंकवाद को बर्दाश्त नहीं करेगा। यह भी कहा गया है कि पठानकोट में हुए आतंकी हमले को लेकर जो भी सबूत भारत ने दिए हैं उनके आधार पर कार्रवाई हो रही है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवा़ज शरी़फ की अध्यक्षता में आंतरिक सुरक्षा मामलों की कमेटी की बैठक के बाद इसकी जानकारी मीडिया को दी गई है। इस बैठक में पाकिस्तान के गृहमंत्री चौधरी निसार अली ़खान, वित्त मंत्री इस्हा़क डार, ़खु़िफया विभाग के निदेशक, लाहौर के कोर कमांडर के अलावा सेना और प्रशासन के कई उच्च अधिकारियों ने हिस्सा लिया।
सूत्रों का कहना है कि भारत-पाकिस्तान के बीच बातचीत का नया शेडयूल जारी किया जा सकता है। उन्होंने कहा, ‘पठानकोट हमले की जांच जारी है। भारत और पाकिस्तान दोनों के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एक-दूसरे के संपर्वâ में हैं। जब तक पाकिस्तान की ओर से कार्रवाई नहीं होती भारत बातचीत के लिए राजी नहीं होगा।’
ज्ञात हो कि पठानकोट हमले के आरोपियों पर कार्रवाई ना होने की बात सामने आने पर भारत-पाकिस्तान के बीच १५ जनवरी को होने वाली विदेश सचिव स्तर की बातचीत टलने के आसार बन गए थे। जिसके चलते पाकिस्तान द्वारा यह ठोस कदम उठाया गया।