जाट आंदोलन : हरियाणा मेंं तनाव बरकरार, दिल्ली में गहराया जल संकट


मुख्यमंत्री केजरीवाल पहुंचे सुप्रीम कोर्ट, पूर्व मुख्यमंत्री हुड्डïा भूख हड़ताल पर
नई दिल्ली। हरियाणा में जाट आरक्षण को लेकर चल रहा आंदोलन थामने का नाम नहीं ले रहा है। यह हिंसक आंदोलन प्रदेश के कई इलाकों में फैल गया है। सुरक्षा बलों की गोलीबारी में 5 और लोगों की मौत हो गई जबकि कई लोग घायल हो गए। आंदोलन में मरने वालों की कुल संख्या 8 हो गई है। जाट नेताओं ने ओबीसी कोटे के तहत जाटों को आरक्षण देने के लिए अध्यादेश लाए जाने तक आंदोलन खत्म करने से इनकार किया है।
जाट आंदोलन के चलते दिल्ली में जलसंकट गहराने लगा है। इस मामले को पहले से ही भांपते हुए दिल्ली सरकार शनिवार रात सुप्रीम कोर्ट पहुंच गई। उसने शीर्ष अदालत से केंद्र सरकार को मामले में हस्तक्षेप करने और राष्ट्रीय राजधानी को मुनक नहर से जलापूर्ति सुनिश्चित करने का निर्देश देने को कहा था। मुनक नहर पड़ोसी हरियाणा राज्य से आती है, जो पूरी तरह से जाट आंदोलन की गिरफ्त में है। पानी को ध्यान में रखते हुए दिल्ली मेंं सोमवार को स्कूल-कालेज बंद रखने की घोषणा की गयी है।
उधर दूसरी ओर हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा आज दिल्ली के जंतर-मंतर पर प्रदेश में शांति के लिए भूख हड़ताल करेंगे। इस आंदोलन के समर्थन में उत्तर प्रदेश के जाट समुदाय ने भी आज रेल और सड़क यातायात को ठप करने का फैसला किया।