जाकिर नाइक का सहयोगी गिरफ्तार : युवकों को आइएस में भर्ती कराने का आरोप


नई दिल्ली। विवादित इस्लाम प्रचारक जाकिर नाइक पर भारत में शिकंजा कसता जा रहा है। महाराष्ट्र एटीएस और केरल पुलिस ने एक संयुक्त ऑपरेशन में जाकिर नाइक के करीबी को गिरफ्तार किया है। अरशीद पर केरल से गायब करीब 21 युवकों में से कुछ को ईसाई धर्म से मुसलमान बनाने और उन्हें आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट में शामिल होने के लिए प्रेरित करने का आरोप है। गिरफ्तारी के बाद कोर्ट ने अरशीद को 4 दिन तक के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया है। अब पहले महाराष्ट्र एटीएस अरशीद से पूछताछ करेगी उसके बाद उसे केरल ले जाया जाएगा। आपको यहां यह बता दें कि अरशीद कुरैशी जाकिर नाइक के इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन (आईआरएफ) से जुड़ा हुआ है। इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन में कुरैशी पब्लिक रिलेशन अफसर थे। एटीएस सूत्रों की मानें तो केरल से गायब युवक और युवतियों में से एक परिवार की शिकायत पर ये कार्रवाई की गई। परिवार का आरोप है कि अरशीद कुरैशी ने ही उनके बेटे और बेटियों को धर्मपरिवर्तन के लिए प्रेरित किया और फिर आईएस से जुड़ने के लिए उकसाया। इस बीच केरल के एबिन जेकब (25) ने कोच्चि पुलिस को बताया था कि उसकी बहन मेरिन उर्फ मरियम, अपने पति बेस्टिन विन्सेंट उर्फ याह्या के साथ लापता है। एबिन ने आरोप लगाया है कि मरियम को बेस्टिन और अरशीद ने इस्लाम अपनाने और आईएसआईएस में भर्ती होने के लिए उकसाया।  एबिन की मानें तो इस साजिश के पीछे बेस्टिन और कुरैशी का हाथ था। एबिन के बयान के आधार पर पुलिस ने दोनों को गैरकानूनी एक्टिविटीज (प्रिवेंशन) एक्ट के तहत गिरफ्तार किया है। जिस मामले में गिरफ्तारी हुई है उसकी एफआईआर केरल में दर्ज है। अरशीद कुरैशी के खिलाफ कोच्चि में आईपीसी की धारा 120 बी (आपराधिक साजिश) और धारा 153 ए (शत्रुता फैलाने) के साथ-साथ गैर कानूनी गतिविधि निरोधक अधिनियम के तहत केस दर्ज किया गया है। वहीं इस गिरफ्तारी पर आईआरएफ के प्रवक्ता ने कोई भी प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया है। गौरतलब है कि बांग्लादेश के ढाका के कैफे में हुए आतंकी हमले में 2 आतंकियों ने जाकिर  नाइक की स्पीच से प्रेरित होने की बात कही थी।